शीतल की मौत का रहस्य बरकरार, पुलिस बरत रही है गोपनीयता

चंद्रपुर/वरोरा. समाजसेवी बाबा आमटे की पोती डा. शीतल आमटे-करजगी के मौत किन कारणों से हुई इस पर तीसरे दिन भी परदा पड़ा रहा. इस मामले में पुलिस ने दिन भर गोपनीयता बनायी रखी.किसी भी तरह कोई खुलासा नहीं किया. पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिली या नहीं यह भी पुलिस ने नहीं बताया. इस मामले की जांच पड़ताल कर रहे वरोरा के उपविभागीय पुलिस अधिकारी डा. पांडे ने निरंतर फोन किए जाने पर फोन रिसीव नहीं किया. डा. शीतल ने आत्महत्य क्यो की इस बात को लेकर आज भी दिन भर चर्चा चलती रही. मृतका द्वारा पारिवारिक विवाद की वजह से यह कदम उठाये के चलते शीतल के ससुर द्वारा आमटे परिवार को एक पत्र भेजा था. 

डा. शीतल के ससुर शिरीष करजगी और सुहासिनी करजगी ने आमटे परिवार को दिए गए पत्र में पारिवारिक विवाद के संदर्भ में कई सवाल उठाये थे. सुहासिनी करजगी ने शीतल के मौत के पूर्व सोशल मीडिया पर पत्र पोस्ट किया था. मात्र अब इसे डिलीट कर दिया गया है. शीतल के पति ने भी सुहासिनी करजगी द्वारा पत्र लिखे जाने की बात कबूली है. आनंदवन के अंतर्गत विवाद और पक्षपात का सामना करने के कारण शीतल के तनावग्रस्त होने का भी उन्होने आरोप लगाया है. सुहासिनी ने आमटे परिवार को दिए पत्र में शीतल के साथ हो रहे पक्षपात पर सवाल उठाये थे.