तीसरी लहर : उद्योग क्षेत्र के लिए बड़ी खबर, कोविड टास्क फाॅर्स बना रहे उद्धव सरकार, मुख्यमंत्री ऑफिस से होगा सीधा निरिक्षण

    महाराष्ट्र : कोरोना के एक-एक कर बढ़ते कदम को देखते हुए इससे हमें बचाने के लिए आये दिन सरकार नए कदम उठा रही है। हर एक राज्य के लिए उसका उद्द्योग क्षेत्र भी भेद महत्वपूर्ण होता हैं, ऐसे में कोविड को देखते हुए राज्य के मुख्यमंत्री ने एक बड़ा फैसला लिया हैं। जिसे तहत उद्द्योगों के लिए टास्क फाॅर्स बनाया जाने वाला हैं।

    मुख्यमंत्री सचिवालय से होगी निगरानी 

    मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना महामारी की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर राज्य में उद्योग क्षेत्र के लिए कोविड टास्क फोर्स गठन के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस कोविड टास्क फोर्स की निगरानी मुख्यमंत्री सचिवालय के माध्यम से की जाए। सोमवार को मुख्यमंत्री ने कोरोना संकट की तीसरी लहर का मुकाबला, उद्योगों के उत्पादन शुरू रखने समेत कई मुद्दों पर भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के पदाधिकारियों से साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की।

    उद्योग जगत रहे शुरू

    मुख्यमंत्री ने कोरोना संकट में उद्योग का आर्थिक चक्र शुरू रखने और उत्पादन में अवरोध न आने देने की दृष्टि से व्यवस्था तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना के नए डेल्टा वेरिएंट के चलते ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी। कई देशों ने वापस पाबंदी लगाने और सावधानी बरतने की शुरुआत कर दी है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट काल में देश भर में उत्पादन को न रोकते हुए व्यवहार शुरू रखने का उदाहरण महाराष्ट्र पेश करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण छोटे-बड़े उद्योगों को प्रभावित न होने देने के लिए बायो बबल (जैव सुरक्षित वातावरण) की व्यवस्था तैयार करें। यदि सख्त पाबंदी लागू करने की जरूरत पड़ी तो उत्पादन पर असर न हो इसके लिए कर्मचारियों को रहने के लिए कंपनी के पास फील्ड निवास की व्यवस्था होना चाहिए।

    ऑक्सीजन उत्पादन पर दें जोर 

    जाए मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने 25 लाख टीका निजी अस्पतालों को उपलब्ध कराया है। उद्योग निजी अस्पतालों के जरिए अपने कर्मचारियों का टीकाकरण करवाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन उत्पादन पर जोर दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगले कुछ महीने मास्क का नियमित इस्तेमाल, हाथ धोने और साफ सफाई का ख्याल रखना पड़ेगा।

    दूसरी लहर में मरीज की गिनती दोगुनी बढ़ी  

    इस बीच राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ.प्रदीप व्यास ने कहा कि कोरोना की पहली हर में 20 लाख मरीज मिले थे। जबकि दूसरी लहर में तीन महीनों में 40 लाख मरीज पाए गए थे। इसलिए कोरोना की तीसरी लहर की तीव्रता कई गुना अधिक हो सकती है। राज्य में फिलहाल पश्चिम महाराष्ट्र और कोंकण संभाग में कोरोना महामारी का प्रमाण काफी अधिक है।