Thousands of farmers gathered in Azad Maidan in mumbai

मुंबई. केन्द्र (Center) की मोदी सरकार (Modi Government) के किसान कानून (Agriculture Bill) के खिलाफ मुंबई (Mumbai) के आजाद मैदान (Azad Maidan) में विशाल मोर्चा का आयोजन किया गया है। इस मोर्चा में भाग लेने के लिए महाराष्ट्र (Maharashtra) के करीब 21 जिलों से करीब 50 हज़ार से ज्यादा किसान (Farmers) आजाद मैदान पहुंचे हैं। 

किसानों के नेता अजीत नवले ने कहा है कि यह मोर्चा दिल्ली में कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में आयोजित किया गया है। किसानों ने शाम को राज भवन तक लांग मार्च का भी एलान किया है। किसानों ने कृषि कानून को वापस लेने की मांग को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को एक ज्ञापन देने की योजना बनाई है। हालांकि माना जा रहा है कि कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए किसानों को राज भवन से पहले रोका जा सकता है।

महाविकास आघाड़ी का किसानों को समर्थन

महाविकास आघाड़ी के नेता लेंगे भाग किसानों को समर्थन देने के लिए महाविकास आघाड़ी के नेताओं ने भी मोर्चा में भाग लेने का ऐलान किया है। आंदोलन को अपना समर्थन देने के मुंबई के आजाद मैदान में महाविकास आघाड़ी के किंगमेकर और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार भी इसमें भाग लेंगे। इसके अलावा महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष और राजस्व मंत्री बाला साहेब थोरात और शिवसेना की ओर से युवा नेता और कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे समेत कई नेता भाग लेंगे।  

राज भवन तक लांग मार्च

कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री नसीम खान ने कहा है कि किसान रैली को संबोधित करने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष थोरात की अगुवाई में कांग्रेसी नेता आजाद मैदान से राजभवन तक लांग मार्च करेंगे। कांग्रेसी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलेगा और उन्हें ज्ञापन सौंपेगा। मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप और कार्यकारी अध्यक्ष चरण सिंह सप्रा ने किसानों से मिल कर उनके पक्ष में अपना समर्थन व्यक्त किया है। जगताप ने कहा कि मोदी सरकार को हर हाल में किसान कानून को वापस लेना होगा। सप्रा ने कहा कि अब यह लड़ाई निर्णायक मोड़ में पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि किसानों की।मांग के सामने केंद्र सरकार को झुकना ही होगा। इस बीच, किन्नरों ने भी आजाद मैदान में आयोजित मोर्चा को अपना समर्थन दिया है।