मध्य महाराष्ट्र, विदर्भ में गरज और चमक के साथ बारिश की चेतावनी

पुणे. अरब सागर (Arabian Sea) में कम दबाव का क्षेत्र (Low pressure area) बनने के कारण राज्य भर में बादल छाए है। दक्षिण से आ रही भाप भरी हवाओं के कारण राज्य में न्यूनतम तापमान (Minimum temperature) बढ़ गया है। इसलिए, अगले तीन दिनों तक मध्य महाराष्ट्र (Maharashtra) और विदर्भ (Vidarbha) में कुछ स्थानों पर गरज और चमक के साथ बारिश (Rain) होने की संभावना है। राज्य में शनिवार को सबसे कम तापमान चंद्रपुर (Chandrapur Temperature) में 14.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। (Thunderstorms and rain in central Maharashtra, Vidarbha)

वरिष्ठ मौसमतज्ञ डॉ जीवनप्रकाश कुलकर्णी (Dr. Jeevan Prakash Kulkarni) ने बताया कि, अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बना है। इसलिए सागर आ रही हवा भाप लेकर आ रही है। ऐसी स्थिति में यह हवाएँ वामावर्त घूमती हैं और दक्षिण से उत्तर की ओर चलती हैं। वर्तमान में यह तीन से साढ़े चार किमी की ऊंचाई पर बह रही है। हवा जैसे-जैसे ऊंचाई पर जाती है वैसे तापमान कम होने लगता है।”

5 किमी की ऊंचाई पर उनका तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस हो जाता है और हवा में भाप को ओलों में बदल दिया जाता है एवं उनका आकर और वजन नीचे से आने वाली हवाओं से अधिक बढ़ने के कारण, नीचे आकर ओलवृष्टि होती है। अगले दो दिनों में मराठवाड़ा और विदर्भ में कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि होने की आशंका है।

13 दिसंबर को कोंकण के सभी जिलों में मध्यम वर्षा होने की संभावना है। साथ ही धुले, जलगांव, नाशिक, पुणे और सातारा जिले में कुछ स्थानों पर गरज के साथ वर्षा की संभावना है। 13, 14 और 15 दिसंबर को अकोला, भंडारा, बुलढाणा और गोंदिया जिले में गरज और चमक के साथ वर्षा की संभावना। 14 और 15 दिसंबर को गोंदिया, नागपुर और वर्धा जिले में येलो अलर्ट दिया गया है। इसके अलावा 15 और 16 दिसंबर को वाशिम, गडचिरोली और चंद्रपुर में मध्यम वर्षा की संभावना है।