Stock market: closed with biggest boom of decade

मुंबई: विदेशी कोषों (Foreign Fund) के सतत प्रवाह तथा सकारात्मक वैश्विक रुख के बीच बुधवार को सेंसेक्स (Sensex) 495 अंक की छलांग के साथ पहली बार 46,000 अंक के स्तर के पार निकल गया। कारोबारियों ने कहा कि कोविड-19 (Covid-19) के टीके को लेकर हुई प्रगति से देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था में पुनरोद्धार की उम्मीद बढ़ी है।

बीएसई (BSE) के 30 शेयरों वाले सेंसेक्स ने दिन में कारोबार के दौरान 46,164.10 अंक की नयी ऊंचाई तय की। अंत में सेंसेक्स 494.99 अंक या 1.09 प्रतिशत के लाभ के साथ 46,103.50 अंक के नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। यह लगातार पांचवां सत्र है जबकि सेंसेक्स लाभ के साथ बंद हुआ है।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 136.15 अंक या 1.02 प्रतिशत के लाभ से 13,529.10 अंक के नए रिकॉर्डस्तर पर बंद हुआ। निफ्टी में लगातार सातवें दिन तेजी रही। दिन में कारोबार के दौरान इसने 13,548.90 अंक का सर्वकालिक उच्चस्तर भी छुआ।

सेंसेक्स की कंपनियों में एशियन पेंट्स का शेयर सबसे अधिक 3.37 प्रतिशत चढ़ गया। कोटक बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईटीसी के शेयर भी लाभ में रहे। वहीं दूसरी ओर अल्ट्राटेक सीमेंट, टाटा स्टील, मारुति, एसबीआई और बजाज ऑटो के शेयर 1.29 प्रतिशत तक टूट गए। कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरियों तथा इसके वितरण की दिशा में हुई प्रगति से वैश्विक बाजार रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गए। हालांकि, ब्रेक्जिट वार्ता को लेकर अभी अनिश्चितता कायम है।

घरेलू बाजारों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) शुद्ध लिवाल बने हुए हैं। शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार एफपीआई ने मंगलवार को शुद्ध रूप से 2,909.60 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘बाजार रोजाना नयी ऊंचाई छू रहा है।

डॉलर की तुलना में रुपया भी मजबूत हो रहा है। छोटी कंपनियों के शेयर व्यापक बाजार की तुलना में अधिक अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। बाजार में लघु से मध्यम अवधि में यह तेजी जारी रहने की उम्मीद है। वैक्सीन को लेकर उम्मीदों और भारत और विकसित देशों में प्रोत्साहन पैकेज से शेयर बाजार की धारणा मजबूत हो रही है।”

बीएसई स्मॉलकैप और मिडकैप में 0.49 प्रतिशत तक का लाभ रहा। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग के हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया के कॉस्पी और जापान के निक्की में लाभ रहा। चीन के शंघाई कम्पोजिट में गिरावट आई। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार लाभ में थे। इस बीच, वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 0.96 प्रतिशत की बढ़त के साथ 49.31 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया तीन पैसे की बढ़त के साथ 73.57 प्रति डॉलर पर पहुंच गया।