”मर्दानी 2” से हट जाएगा कोटा शहर का नाम, यश राज फ़िल्म्स ने लिया बड़ा फैसला

जयपुर, बॉलीवुड अभिनेत्री रानी मुखर्जी की फिल्म ''मर्दानी 2'' का ट्रेलर 14 नवंबर को रिलीज हुआ है. एक तरफ फिल्म ''मर्दानी 2'' का ट्रेलर देख कई दर्शक खुश हुए है, तो दूसरी तरफ इस फिल्म का विरोध शुरू हो गया

जयपुर, बॉलीवुड अभिनेत्री रानी मुखर्जी की फिल्म ‘मर्दानी 2′ का ट्रेलर 14 नवंबर को रिलीज हुआ है. एक तरफ फिल्म’ मर्दानी 2′ का ट्रेलर देख कई दर्शक खुश हुए है, तो दूसरी तरफ इस फिल्म का विरोध शुरू हो गया है.राजस्थान के कोटा में इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग हो रही थी. इस विवादों के चलते फिल्म के निर्माता ने इस फिल्म से कोटा शहर का नाम हटाने का फैसला लिया है.निर्देशक गोपी पुथरन ने कहा कि उन्होंने महसूस किया कि ट्रेलर में बताय गया है की, इस फिल्म की कहानी, सच्ची घटनाओं से प्रेरित है और कोटा में आधारित है. जिससे लोगो तक गलत संदेश जा सकता है. इसी लिए यश राज फ़िल्म्स ने अब फिल्म से सच्ची घटनाओं के दावे को हटाने का फैसला किया है.

यह भी पढ़े : फिल्म ‘राधे’ में हुई टीवी के इस हैंडसम हंक की एंट्री

कोटा के लोगों ने फिल्म निर्माता पर उनके शहर की छवि ख़राब करने का आरोप किया है. साथ ही इस फिल्म से कोटा से जुड़े आपत्तिजनक दृश्य हटवाने की मांग की है. अपनी इसी मांग को लेकर कोटा के लोगों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मुलाकात की. ओम बिड़ला कोटा के सांसद हैं.इस विवाद पर ओम बिरला ने कहा, ‘मुझे कुछ संगठनों ने बताया है कि फिल्म मर्दानी 2 में कोटा शहर का नाम लेकर कुछ गंभीर आपत्तिजनक टिप्पणियां की गई हैं. मैं निश्चित रूप से इस पर चर्चा करूंगा. किसी भी शहर को फिल्मों के माध्यम से बदनाम करने का किसी को अधिकार नहीं है. काल्पनिक घटना में शहर का नाम लेना गंभीर है और इसके लिए निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी.

कोटा के लोगो का कहना है की, दुनियाभर में इस शहर को शैक्षणिक नगरी से पहचाना जाता है. देशभर से बच्चे पढ़ने के लिए इस शहर में आते है. उनके माता पिता इस शहर पर भरोसा कर उन्हें यहां भेजते हैं. खास बात यह है की, इस बच्चों द्वारा खर्च किए गए धन से ही यहां हजारों लोगों को रोजगार मिलता है. इस फिल्म में कोटा में अपराध दिखा कर इस शहर को आपराधिक नगरी बताने की कोशिश की जा रही है. इस फिल्म को देखकर लोग कोटा के प्रति अपनी धारणा बनाएंगे. लोगों को लगेगा की यह शहर रहने के लायक नहीं है. लोगों का कहना है इस काल्पनिक कथा में कोटा का नाम नहीं लिया जाना चाहिए था. इस फिल्म से कोटा का नाम बदनाम होगा और इसीलिए इस फिल्म से कोटा का नाम हटाया जाए.

इस फिल्म की काफी शूटिंग कोटा में ही हुई है. फिल्म में एक सीरियल किलर को लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं को अंजाम देते हुए दिखाया गया है.इस दृश्य की शूटिंग कोटा में हुई है. ट्रेलर की शुरुआत में फिल्म को सच्ची कहानी से प्रेरित होकर दृश्य तैयार करना बताया गया है.कोटा के लोगों को इस पर आपत्ति है. यहां के लोगों की मांग है कि फिल्म से कोटा का नाम हटाया जाए. उनके मुताबिक, यदि फिल्म के खिलाफ जल्द ही कोई कदम नहीं उठाया गया तो फिर कोर्ट की मदद ली जाएगी.

कोटा के लोगो का कहना है की, इस शहर में आज तक ऐसी दुष्कर्म की कोई घटना नहीं हुई है. लोगों का कहना है कि जब फिल्म की शूटिंग कोटा में की जा रही थी तो वे बहुत खुश थे.उन्होंने फिल्म ‘मर्दानी 2’ यूनिट का जमकर स्वागत किया था। मर्दानी 2 की बात करे तो इस फिल्म में रानी मुखर्जी के अलावा आदित्य चोपड़ा भी नजर आने वाले है. इस फिल्म के निर्देशक गोपी पुथरन हैं. फिल्म की शूटिंग कोटा के अलावा जयपुर में भी की गई है.इस फिल्म में रानी मुखर्जी पुलिस की भूमिका में हैं.यह फिल्म वर्ष 2014 में रिलीज ‘मर्दानी’ का सीक्वल है.इस बार कहानी राजस्थान में सेट है.फिल्म में रानी मुखर्जी के किरदार का प्रमोशन हो गया है।

हाल ही में ‘मर्दानी 2’ को लेकर चल रहे विवादों पर फिल्म निर्देशक गोपी पुथरन ने कहा, फिल्म की कहानी क्राइम से जुड़ी सच्ची घटनाओं पर आधारित है. "मर्दानी 2 जैसी फिल्मों का आइडिया कुछ भयावह प्रवृत्ति वाली वास्तविक घटनाओं से आता है. ऐसी घटनाएं आप अक्सर अखबारों में पढ़ते हैं. मेरी फिल्म ऐसी ही सच्ची घटनाओं पर आधारित है जो देश भर में हुई हैं. देखना है की इस विवादों के चलते फिल्म को रिलीज होने में और कितनी मुश्किल आती है. साथ ही ये भी सवाल खड़े हो रहे है की, क्या इस फिल्म से कोटा शहर का नाम हटाया जाएगा. या बिना नाम हटाए फिल्म को रिलीज किया जाएगा.