15 दिन के अंदर गृहकर भरने पर 1% छूट, वसई-विरार महानगरपालिका की घोषणा

    वसई. वसई-विरार शहर महानगरपालिका (Vasai- Virar Municipal Corporation) ने नागरिकों पर 600 रुपये उपभोक्ता कर लगाने के बाद अब 15 दिनों के अंदर गृहकर (House Tax)भरने वालों को 1 प्रतिशत छूट देने की घोषणा की है। नागरिकों का कहना है कि कोरोना (Corona) के चलते लोग पहले से ही परेशान हैं। लोगों की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है।

    ऐसे में महानगरपालिका की ओर से नागरिकों को राहत देने के बजाय उन पर अलग से 600 रुपये का उपभोक्ता कर लाद दिया गया। अब महानगरपालिका अधिकतम कर वसूली के उद्देश्य से 1 प्रतिशत छूट का लालच देकर नागरिकों के साथ धोखाधड़ी कर रही है।

    टैक्स भरना जनता की जिम्मेदारी

    शिवसेना नेता पंकज देशमुख में कहा कि कोविड-19 को लेकर वसई-विरार महानगरपालिका की ओर से जो व्यवस्थाएं की जा रही हैं, वह जनता से संग्रह किए गए टैक्स के पैसे से ही हो रहा है। पैसे की कमी बताकर मनपा ने कोई कार्य रोका नहीं। समय पर टैक्स भरना जनता की जिम्मेदारी है। ऐसे में नागरिकों को अपनी सहूलियत के हिसाब से टैक्स भरना चाहिए।

    जनता को गुमराह करना गलत

    वसई-विरार भाजपा जिला उपाध्यक्ष मनोज बारोट ने कहा कि मनपा को 1 प्रतिशत छूट का झुनझुना देने की बजाय तत्काल बढ़ाये गए कर वापस लेना चाहिए। पहले 600 रुपये टैक्स बढ़ा देना, फिर टैक्स में एक प्रतिशत छूट देने की अपील कर जनता को गुमराह करना बिल्कुल गलत है।

    आर्थिक संकट में मनपा, करें सहयोग

    मनपा उपायुक्त प्रदीप जंभाले पाटिल ने कहा कि कोविड के कारण मनपा ने नागरिकों से अपील की थी कि कर भुगतान केंद्र बंद होने के कारण वह अपने करों का भुगतान ऑनलाइन करें। इस वर्ष मनपा के खजाने में केवल 5 करोड़ रुपये जमा हो पाए हैं। इतनी कम राशि की वसूली से मनपा पर आर्थिक संकट आ गया है। कर संग्रह को अधिकतम कैसे वसूल किया जाए, इसके लिए मनपा नागरिकों के सामने 1 प्रतिशत छूट का स्किम चलाकर टैक्स भरने की अपील कर रही है।  नागरिकों से अपील है कि वह समय पर कर जमा कर मनपा का सहयोग करें।