8 दिन में 1000 इमारतें सील

मुंबई. मुंबई में कोराना को नियंत्रित करने में लगी बीएमसी को सफलता मिल रही है, लेकिन एक इलाके में कोराना नियंत्रण में आ रहा है तो दूसरे इलाकों में कोराना के मामले बढ़ने से बीएमसी की चिंता बढ़ रही है. पिछले 8 दिन में जिन इलाकों में मरीजों की संख्या बढ़ी है वहां 1000 इमारतें / फ्लैट सील किए गए हैं. 

16 जून को मुंबई में सील इमारतों की संख्या 4859 थी जो 22 जून को बढ़ कर 5951 हो गई. मुंबई में अब तक कुल 10,946 इमारतें सील की गई हैं जिनमें से 4995 इमारतों को सील मुक्त किया गया है. के पूर्व (विक्रोली-अंधेरी- जोगेश्वरी) 644, आर सेंट्रल (बोरीवली) 589, एफ उत्तर ( माटुंगा) 532, पी उत्तर ( मालाड) 471, टी वार्ड ( मुलुंड) 454 इमारतें सील हैं. हालांकि कंटेनमेंट जोन की संख्या 828 से घट कर 770 रह गई है. 

मरीज डबल होने की दर 41 दिन

मुंबईकरों के लिए राहत की बात यह है कि मरीज दोगुना होने की दर 41 दिन हो गई है. रोजाना मरीज वृद्धि दर भी 2.30 से कम हो कर 1.72 पर आ गई है. 16 जून को मरीज दोगुना होने की दर 30 दिन थी. 10 दिन यह वृद्धि दर 11 दिन बढ़ी है. मरीज दोगुना होने की दर 22 मार्च को 3 दिन थी. 15 अप्रैल को 5 दिन, 12 मई को 10 दिन, 2 जून को 20 पर पहुंचा और 24 जून को डबल होकर 41 दिन पर पहुंच गया है.

डेली मरीज वृद्धि दर में भी कमी

डेली मरीज वृद्धि दर  भी कम हो रही है. 17 जून को मरीज वृद्धि दर 2.30 थी जो 24 जून को कम होकर 1.72 पर आ गई. डेली मरीज वृद्धि दर में एच पूर्व वार्ड बांद्रा पूर्व में 91 दिन, एफ उत्तर वार्ड 91 दिन, ई वार्ड भायखला 76 दिन, एल वार्ड कुर्ला 73 दिन, ए वार्ड कुलाबा 69 दिन है. 

 मृत्यु दर में बढ़ोत्तरी

मरीज डबलिंग रेट हो या डेली वृद्धि दर में कमी आने के बाद भी मरीजों की मृत्यु दर बढ़ने से चिंता भी बढ़ गई. 15 दिन पहले मरीज मृत्यु दर 3 फीसदी से नीचे आ गई थी जो एक बार फिर बढ़ कर 5 फीसदी से ऊपर हो गई है. अकेले केईएम अस्पताल में प्रतिदिन कोरोना के 11  मरीजों की मौत हो रही है. मरीजों को ऑक्सीजन की कमी के कारण मृत्यु होने का आरोप लगा था. इस पर केईएम अस्पताल के डीन हेमंत देशमुख का कहना है कि अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति में कोई कमी नहीं है. अस्पताल में देरी से आने के कारण मरीजों की हालत क्रिटिकल थी इसलिए उनकी मौत हुई है. 

 धारावी में दो अस्पताल बंद

मरीज कम होने का असर दिखने लगा है. धारावी में मरीजों की संख्या कम होने के कारण जी उत्तर वार्ड बीएमसी प्रशासन ने 2 कोविड केयर सेंटर को बंद कर दिया है. मरीज बढ़ने के साथ ही यह कोविड सेंटर अप्रैल महीने में शुरु किया गया था, जब धारावी हॉट स्पाट बन गया था. जी उत्तर वार्ड में डेली ग्रोथ रेट घट कर 1.0 पर आ गया है. अप्रैल में यहां मृत्यु दर 5.0 फीसदी थी जो अब 3.7 पर आ गई है. यहां अब तक 81 लोगों की मौत हो चुकी है. बंद किए गए कोविड सेंटर राजीव गांधी स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में 300 बेड का सीसीसी-1 और धारावी मनपा स्कूल में 700 बेड का सीसीसी-2 अस्पताल बनाया गया था. 

अब इस अस्पताल की जरुरत नहीं

जी उत्तर वार्ड के सहायक मनपा आयुक्त का कहना है कि मरीज कम होने से अब इस अस्पताल की जरुरत नहीं रह गई है. फिलहाल वहां मरीजों की भर्ती नहीं हो रही है. पूरी तरह से बंद करने के लिए अभी हमें और इंतजार करना पड़ेगा.