arrest

मुंबई. मानखुर्द पुलिस ने हाईवे पर चलती बसों में भीड़ का फायदा उठा कर बुजुर्ग व्यक्तियों और महिलाओं के साथ लूटपाट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर 2 गिरोह के 4 सदस्यों लगातार 2 दिन की कार्रवाई में गिरफ्तार किया है.

गिरोह के बदमाश वारदात के दौरान पीड़ित के विरोध करने पर चाकू मारने से भी नहीं हिचकिचाते थे. पुलिस ने गिरफ्तार लुटेरों के कब्जे से कई लूट के मोबाइल फोन आदि बरामद किया है और आगे की जांच कर रही है.

भीड़-भाड़ वाले बस स्टॉप को चुनते थे आरोपी

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार आरोपी हिस्ट्रीशीटर है और लॉकडाउन के समय कोरोना महामारी की वजह इन्हे भी और आरोपियों की तरह जेल से रिहा किया गया था, चूंकि कोरोना की वजह से लोकल ट्रेन सिर्फ चुनिंदा लोगों के लिए ही चल रही है और रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की भीड़ नहीं है, इसके लिए यह गिरोह भीड़-भाड़ वाले बस स्टॉप पर ही बुजुर्ग यात्रियों को टारगेट कर रहे है. ये लुटेरे वारदात के दौरान पीड़ित के विरोध करने पर उन्हें चाकू मारने से भी नहीं हिचकिचाते थे.

पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में बने यात्री

वाशी-मानखुर्द हाईवे के बस स्टॉप पर भीड़ का फायदा उठा कर बुजुर्ग यात्रियों के मोबाइल फ़ोन और पैसे और दूसरे सामान चोरी और लूट की खबर आए दिन मिलने के बाद पुलिस निरीक्षक (क्राइम) किशोर खरात के मार्गदर्शन और पुलिस उप निरीक्षक गहिनीनाथ जाधवर के नेतृत्व में कॉन्स्टेबल मेहबूब मुल्ला, कमलाकर मगरे, धर्मनाथ आव्हाड, संदीप पाटील, भारत म्हारगुडे और संजय पाटील की एक टीम तैयार की. इस टीम ने यात्री बनकर सादे कपड़ो में भीड़-भाड़ वाली जगह के बस स्टॉप की रेकी की और फिर जाल बिछा कर लगातार 2 दिन तक 2 बार कार्रवाई कर 4 लुटेरों को गिरफ्तार किया. -प्रकाश चौगुले, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, मानखुर्द पुलिस स्टेशन

गिरफ्तार लुटेरे हैं हिस्ट्रीशीटर

पुलिस ने 2 अलग-अलग पीड़ित की शिकायत पर 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. चारों आरोपी चीता कैंप इलाके के रहने वाले हैं. इन पर रेलवे ट्रेन, बस के अंदर और स्टॉप पर यात्रिओं के साथ लूटमार और चोरी के दर्जनों मामले दर्ज है. इमरान आदम बस्ती उर्फ इमो (33) के खिलाफ वाशी रेल्वे, ट्रांम्बे, वडाला रेल्वे और एनआरआई कॉम्प्लेक्स सागरी नेरुल पुलिस में एक दर्जन से ज्यादा केस हैं. इरफान गुलाम अहमद शेख (34), अली अन्सार अहमद शेख (22) और सादिक ख्वाजा हुसेन शेख (26) पर ट्रांम्बे पुलिस ठाणे में 7 केस दर्ज है.

– गहिनीनाथ जाधवर, पुलिस उप निरीक्षक,गुन्हे प्रकटीकरण