ST BUS

    मुंबई. आर्थिक संकट से जुझ रहे एसटी महामंडल (ST Mahamandal) को राज्य सरकार 600 करोड़ की मदद करेगी। ऐसी जानकारी परिवहन मंत्री व एसटी महामंडल के अध्यक्ष एड. अनिल परब (Anil Parab) ने दी। इस निधि से 98 हजार कर्मचारियों का बकाया वेतन देने में मदद होगी। एड. परब ने इसके लिए  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) और उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) को धन्यवाद देते हुए कहा कि कोरोना महामारी की वजह से राज्य में दूसरी बार हुए लॉकडाउन से एसटी की हालत और खराब हो गई। 50 प्रतिशत यात्री की शर्त से आय कम हो गई। यहां तक कि दैनिक खर्च निकलना मुश्किल हो गया। एसटी को इस संकट से निकालने के लिए राज्य सरकार से मदद की मांग की गई।

    वित्त मंत्री अजित पवार ने कर्मचारियों के वेतन व अन्य खर्च के लिए 600 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। इस बैठक में परिवहन राज्यमंत्री सतेज पाटील, अर्थ व नियोजन विभाग के अप्पर मुख्य सचिव, परिवहन विभाग के अप्पर मुख्य सचिव व एसटी महामंडल के उपाध्यक्ष उपस्थित थे। इसके पहले भी एसटी कर्मचारियों के लिए राज्य सरकार ने 1 हजार करोड़ रुपए की मदद की थी। एसटी की आय बढ़ाने के लिए नए स्रोत विकसित किए जा रहे हैं।

    इन माध्यमों से आय को बढ़ाने की योजना बनाई गई

    • एसटी का माल यातायात सक्षम बनाने के लिए सरकार के विभिन्न 17 विभागों को एसटी के “महाकार्गो” से सामान ढुलाई के लिए कहा गया है।
    • सामान्य लोगों के लिए भी पेट्रोल-डीजल अथवा सीएनजी पेट्रोल पंप एसटी महामंडल की तरफ से शुरू किए जाएंगे। 
    • टायर रिमोल्डगिंग योजना को बढ़ावा दिया जाएगा। 
    • सरकार के विविध विभागों के वाहनों की दुरुस्ती एसटी के माध्यम से की जा सकेगी
    • यात्रियों को “नाथजल” के माध्यम से शुद्ध  बोतलबंद पानी देने की योजना। 
    • महामंडल के अधिकृत भूखंडों का पीपीपी मॉडल पर विकास।