मुंबई के अस्पतालों और कोविड केअर सेंटर में 66 प्रतिशत बेड्स खाली

मुंबई. मुंबई में कोरोना के नए मामलों में गिरावट के बाद अब एक्टिव मरीजों की संख्या भी कम हो रही है. मनपा के अस्पतालों और कोविड केअर सेंटर में कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित कुल बेड्स में से 66 प्रतिशत बेड्स रिक्त पड़े हैं.

मुंबई में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए डेडिकेटेड कोविड-19 अस्पताल, डेडिकेटेड कोविड-19 हेल्थ सेंटर और कोविड-19 केयर सेंटर, टाइप-2 (सीसीसी-2) को मिलाकर कुल 17,707 बेड हैं. रविवार को 69.26 फीसदी बेड रिक्त थे.

आईसीयू के 804 बेड रिक्त पड़े है

 इसी तरह कुल 2,003 आईसीयू बेड में से इस वक्त 40 प्रतिशत यानी 804 बेड रिक्त पड़े है. मुंबई में 8,689 ऑक्सीन बेड हैं. इसमें से 68.90 फीसदी और 1,183 वेंटिलेटर बेड में से 31.53 फीसदी यानी 373 बेड खाली पड़े हैं. वर्तमान में मुंबई में कोरोना से ग्रसित होने वालों की संख्या 1000 के नीचे चली गई है. जबकि एक्टिव मरीज़ों की संख्या भी 10 हजार के तक पहुंच गई है. मनपा से प्राप्त आंकड़ों का आंकलन करे तो मुंबई में लगभग 66 फीसदी बेड्स रिक्त पड़े हैं. 

 दिसंबर तक बेड्स की संख्या में कोई कटौती नहीं करेंगे : सुरेश काकानी

अतिरिक्त मनपा आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा कि अक्टूबर के अंत से ही नए मरीज़ों की संख्या में काफी गिरावट आई है. इसी के साथ अस्पताल में एक्टिव मरीजों की संख्या भी 10000 के करीब आ गई है. फिलहाल बेड्स रिक्त पड़े हैं, लेकिन हम किसी भी प्रकार का कोई जोखिम नहीं लेंगे. दीवाली के बाद कोरोना की दूसरी लहर आने की संभावनाएं जताई जा रही है. ऐसे में दिसंबर तक हम बेड्स की संख्या में कोई कटौती नहीं करेंगे. दुर्भग्यवश यदि दूसरी लहर आती है तो हम रोजना लगभग 1500 मरीजों को भर्ती करने के लिए तैयार हैं.