प्रशासन चलाए बस, नहीं तो आंदोलन, सत्तापक्ष की चेतावनी

भायंदर. मीरा-भायंदर मनपा प्रशासन के खिलाफ सत्तापक्ष भाजपा ने कड़ा रुख अख्तियार किया है. चेतावनी दी है कि प्रशासन बस चलाए,नहीं तो आंदोलन छेड़ा जाएगा. परिवहन सभापति मंगेश पाटिल और सभागृह नेता प्रशांत दलवी ने संयुक्त रूप से पत्रकार परिषद में कहा कि एक जनप्रतिनिधि के दबाव में आकर मनपा प्रशासन ने परिवहन ठेका रद्द कर दिया, जबकि कुछ दिन पहले ही ठेकदार के साथ पूरक अनुबंध किया था.इससे साफ है कि वह ठेकदार के मार्फत बस चलाना चाहता था.

दलवी ने कहा कि परिवहन कर्मचारियों का एक गुट डिपो के बाहर आंदोलन जारी रखे हुए है. 6 माह का उनका बकाया वेतन तत्काल दिया जाए और बस चलाई जाए. परिवहन समिति सभापति ने कहा कि परिवहन समिति वैधानिक समिति है.ठेका रद्द करते समय प्रशासन ने उसकी सहमति लेना उचित नहींं समझा.जब ठेकेदार को पैसा ही नहींं दिया गया तो वह कर्मचारियों को वेतन कहां से देता ? 2019 में मनपा द्वारा नियुक्त एजेंसी की रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि परिवहन सेवा निजी ठेकेदार से चलाया जाए.अब जब ठेका रद्द कर दिया गया है,तो प्रशासन तत्काल बस चलाना शुरू करे,ताकि यात्रियों की परेशानी दूर हो सके.