मुंबई हमले के 12 साल पूरे, शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे राज्यपाल व CM

  • मुंबई की सुरक्षा बढ़ाई गई

-सत्यप्रकाश सोनी

मुंबई. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 2008 के आतंकी हमले की गुरुवार को 12वीं बरसी है. हर वर्ष 26 नवंबर को आतंकी हमले का जख्म हरा हो जाता है. इस आतंकी हमले में जिन्होंने अपनों को खोया है उन्हें आज भी अधूरेपन का एहसास होता है. भारत में यह सबसे बड़ा आतंकी हमला था. इस हमले में 166 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. इसी दिन हथियारों से लैस 10 पाकिस्तानी आतंकवादियों ने नृशंस हत्या को अंजाम दिया था, जिसमें सैकड़ों लोगों ने जान गंवा दी थी. उस हृदयविदारक हमले को इतने साल बीत चुके हैं, लेकिन कई पीड़ितों को अभी भी पूरी तरह से न्याय नहीं मिला है.

26 नवंबर को, हर साल की तरह, महाराष्ट्र के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, डिप्टी सीएम, गृह मंत्री, मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, मुंबई पुलिस आयुक्त और राज्य के अन्य शीर्ष गणमान्य व्यक्ति स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे. हमलों में शहर और राष्ट्र के लिए अपना जीवन देने वाले कुछ प्रमुख नामों में महाराष्ट्र के तत्कालीन आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) प्रमुख हेमंत करकरे, शहीद संदीप उन्नीकृष्णन,  तत्कालीन मुंबई पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त अशोक कामटे,तत्कालीनवरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय सालस्कर और सहायक उप-निरीक्षक (एएसआई) तुकाराम ओम्बले सहित कई अन्य शामिल है.

पाक की कार्यवाई के बाद पूरा होगा न्याय : उज्जवल निकम

विशेष सरकारी अभियोक्ता उज्ज्वल निकम ने कहा, जहां तक हमलावरों की बात है, भारत ने मामले में पूरा न्याय किया है. भारतीय पक्ष की ओर से मामले में 50 प्रतिशत न्याय किया गया है, लेकिन 166 पीड़ितों को पूर्ण न्याय सुनिश्चित करने के लिए पाकिस्तान द्वारा अभी भी कार्रवाई किया जाना बाकी है और कई विदेशी नागरिकों सहित घायलों के साथ न्याय किया जाना बाकी है.

पाकिस्तान ने उन मुख्य अपराधियों की गिरफ्तारी और सजा को लेकर अबतक न तो कोई ट्रायल चलाया और न तो गिरफ्तार किया है. अगर पूर्ण न्याय चाहते हैं जो वर्तमान में पाकिस्तान में छिपे हुए हैं उनपर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया जाना चाहिए जो अबतक नहीं हुआ है. हाई-प्रोफाइल मामले की कानूनी लड़ाई लड़ने वाले सेलिब्रिटी वकील ने बताया कि लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर हाफिज सईद और जकीउर रहमान लखवी जैसे मुख्य साजिशकर्ता और योजनाकार भारत में आरोपी होने के बावजूद अभी भी आराम से हैं.

सभी पुलिस स्टेशन को एलर्ट जारी

एस. चैतन्य डीसीपी सीपी पीआरओ ने बताया कि मुंबई में 26/11की 12वीं बरसी पर सभी पुलिस स्टेशन को एलर्ट किया गया है. साथ ही सभी अतिरिक्त पुलिस आयुक्त सहित डीसीपी को क्षेत्र में घटने वाली घटनाओं पर कड़ी नज़र रखने का आदेश दिया गया है.इसके अलावा अपने अपने क्षेत्र में रूट मार्च और कॉम्बिंग ऑपेरशन करने के साथ ही इलाकों में किसी तरह का मोर्चा या आंदोलन करने की अनुमति न दें वहीं सुरक्षा के मध्यनजर रखते हुए सशत्र सुरक्षाबल को भी तैनात किया गया है.