मजबूत भारत के अग्रदूत बनें इंजीनियरिंग के स्नातक

– राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का आह्वान

– डॉ. आम्बेडकर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय का 22 वां दीक्षांत समारोह

मुंबई. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी स्नातकों को एक मजबूत और समृद्ध भारत निर्माण के लिए परिवर्तन और प्रगति का अग्रदूत ’बनने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि इंजीनियरिंग स्नातक उच्च लक्ष्य निर्धारित करें और राष्ट्र निर्माण के लिए अपने प्रयास करें. राज्यपाल ने राजभवन से डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए रायगढ़ के लोनेरे स्थित डॉ. आम्बेडकर टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के 22 वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे. इस अवसर पर उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत भी उपस्थित थे. 

कोरोना महामारी के कारण भय और चिंता के वातावरण का उल्लेख करते हुए राज्यपाल ने स्नातक करने वाले छात्रों से कहा कि वे कोरोना वायरस महामारी से भयभीत न हों. उन्होंने कहा कि राष्ट्र तभी मजबूत होगा, जब हर कोई अपने काम को पूरी लगन से करते हुए सुरक्षित दूरियों के मानदंड का पालन करेगा. हमें सावधान रहना चाहिए और भयभीत नहीं होना चाहिए. इस अवसर पर उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने कहा कि वे डॉ. बाबासाहेब आम्बेडकर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय की समस्याओं से अवगत हैं. उन्होंने विश्वविद्यालय को इसकी समस्याओं के समाधान में पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया. 

6 छात्रों को पीएचडी 

इस अवसर पर राज्यपाल ने 6 छात्रों को इंजीनियरिंग में पीएचडी से सम्मानित किया. इसके अलावा उन्होंने विश्वविद्यालय के 25 एम. टेक, बी.टेक, डिप्लोमा और एडवांस डिप्लोमा ग्रेजुएट्स को गोल्ड मेडल प्रदान किया. उपकुलपति प्रोफेसर वेदला राम शास्त्री ने दीक्षांत समारोह में 1204 उम्मीदवारों को एम.टेक, बी.टेक, डिप्लोमा और एडवांस डिप्लोमा प्रदान किया.