सुशांत के सुसाइड पर बड़े स्टार्स खामोश, प्रतिक्रिया देने से काट रहे हैं कन्नी

– बाहरी कलाकारों ने की आवाज बुलंद 

मुंबई. एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड मामले पर बॉलीवुड के बड़े घरानों के सदस्य इस पर प्रतिक्रिया देने से  बच रहे हैं. कई बड़े फिल्म स्टार्स और बैनर ने मीडिया से दूरी बना ली है. इन बड़े फ़िल्मी कलाकारों की यह चुप्पी कई सवाल खड़े करती है.आखिर क्यों वे इस मामले पर कुछ कहने से  कन्नी काट रहे हैं. सुशांत के सुसाइड मामले पर जितना मुखर होकर बाहरी कलाकार  बोल रहे हैं , उतना  शोर अंदर से सुनाई नहीं दे रहा है. 

बॉलीवुड के बड़े घरानों व बैनर पर आरोप लग रहे हैं कि सुशांत को एक साजिश के तहत टारगेट किया गया था. भाई –भतीजावाद के चक्कर में सुशांत को कई बड़ी फिल्मों से आउट कर दिया गया था. इस वजह से वे मानसिक दवाब का सामना कर रहे थे. सुशांत की मौत के बाद बड़े स्टार्स की ख़ामोशी कई सवाल खड़े कर रही है.

सिर्फ बाहरी कलाकारों ने दिया साथ 

सुशांत सुसाइड मामले में सीबीआई जांच की मांग करने वाले कलाकारों पर गौर करें तो यह सभी कलाकार बॉलीवुड के बड़े घरानों से संबंध नहीं रखते हैं. इस मामले में सीबीआई जांच की मांग करने वाले  भोजपुरी एक्टर मनोज तिवारी और शेखर सुमन का सम्बन्ध बिहार से है. वहीं महाभारत में द्रौपदी का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस व  बीजेपी सांसद  रूपा गांगुली  बंगाल से हैं.सुशांत खुद बिहार के रहने वाले थे. ऐसे में बड़ा सवाल यह है इस मुश्किल घड़ी में सुशांत के परिवार वालों को बॉलीवुड में सालों से राज करने वाले एक्टर क्यों खड़े नहीं हैं. क्या सोशल मीडिया पर सुशांत की श्रद्धांजलि में चंद शब्द लिख देने से उनकी जिम्मेदारी पूरी हो जाती है. क्या इन कलाकारों को यह डर सता रहा है कि उन्होंने इस मामले में कुछ बोला तो उन्हें आगे काम मिलने में दिक्कतें आ सकती है.

एक्ट्रेस अनु अग्रवाल ने दर्द किया साझा 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कई बाहर से बॉलीवुड में काम करने वाले एक्टर अपने दर्द को साझा कर रहे हैं. साल 1990 में रिलीज फिल्म ‘आशिकी’ से सुर्ख़ियों में आई एक्ट्रेस अनु अग्रवाल ने  कहा है कि उन्होंने बॉलीवुड में आउटसाइडर होने के दर्द को करीब से महसूस  किया है.उन्होंने कहा कि आशिकी फिल्म के बॉक्स ऑफिस पर सुपर हिट होने के बाद उन्हें लोगों के जलन व बुरे  व्यवहार से गुजरना पड़ा.अनु ने कहा कि  बॉलीवुड में मेरे साथ हमेशा से एक आउटसाइडर की तरह व्यवहार किया गया. मेरा साथ देने वाला कोई नहीं था और जो साथ देना चाहते थे वो बदले में कुछ चाहते थे, जिसके लिए मैं तैयार नहीं थी. उन्होंने कहा कि एक अवार्ड से मेरा नाम इसलिए हटा दिया गया था, क्योंकि जूरी मेंबर मुझे व्यक्तिगत तौर पर नहीं जानते थे. 

मौत के बाद  क्यों जागते हैं लोग

एक्टर अभय देओल ने कहा है कि दुःख इस बात का है कि किसी की मौत के बाद लोग जागते हैं. उन्होंने कहा कि अब इस पर चर्चा हो रही है. उम्मीद की जानी चाहिए इसका कोई हल निकेलगा. अभय देओल बॉलीवुड स्टार धर्मेंद्र के परिवार से ताल्लुक रखते हैं,  लेकिन वे अपनी बेबाक बयानों के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने कहा कि बॉलीवुड में लॉबी कल्चर सालों से है. अभय ने कहा कि वह अकेले कुछ नहीं कर सकते हैं, बल्कि बहुत सारे लोग जब एक साथ प्रयास करेंगे तो इसका नतीजा जरुर निकलेगा.