Vaccination in Thane Manpa border from 11 am on Saturday
Representative Picture

  • एथिक कमेटी से मिली मंजूरी

मुंबई. मनपा के सायन अस्पताल और राज्य सरकार के अधीन आने वाले जेजे अस्पताल व मेडिकल कॉलेज में स्वदेशी वैक्सीन का ट्रायल इस साप्ताह से शुरू हो जाएगा. दोनों ही अस्पतालों को एथिक कमिटी से ट्रायल के लिए अनुमति मिल गई है. स्वदेशी वैक्सीन मुंबई में चल रहे अन्य वैक्सीन ट्रायल की तुलना में काफी बड़े स्तर पर किया जा रहा है.

कोरोना को मात देने के लिए मुंबई में कई वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. एक ओर जहां मनपा के केईएम और नायर अस्पताल व मेडिकल कॉलेज में ऑक्सफोर्ड की विदेशी वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है तो वहीं दूसरी ओर भारत बॉयोटेक ने इंडियन कॉउंसिल ऑफ मेडीकल रिसर्च (आईसीएमआर) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ विरोलॉजी (एनआईवी) की मदद से विकसित किए स्वदेशी ‘कोवैक्सीन’ के परीक्षण के लिए मनपा के सायन अस्पताल और गवर्नमेंट अस्पताल जेजे का चयन किया है. दोनों ही अस्पतालों में वैक्सीन के 3 फेज का ट्रायल होने वाला है.

एक सप्ताह में ट्रायल होगा शुरू

सायन अस्पताल के डीन डॉ. मोहन जोशी ने बताया कि गुरुवार को हुई बैठक में अस्पताल की एथिक कमिटी से ट्रायल के लिए अनुमति मिल गई है. हमने वालंटियर्स को वैक्सीनेट करने की लगभग सभी तैयारी कर ली है. एक से दो दिन में हमें वैक्सीन मिल जाएगी और हम ट्रायल शुरू कर देंगे. जेजे अस्पताल के डीन डॉ. रंजीत मानकेश्वर ने कहा ‘ वैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल के लिए आईसीएमआर ने जेजे को भी चुना है. हमें भी अस्पताल की एथिक कमिटी से अनुमति मिल गई है. एक सप्ताह में हम भी ट्रायल शुरू कर देंगे.

दो हजार वालंटियर्स की जरूरत

चूंकि ‘कोवैक्सीन’ का ट्रायल तीसरे फेज का है, इसके लिए प्रत्येक अस्पताल को 1000 वालंटियर्स लगेंगे. डॉ. जोशी ने बताया कि परीक्षण के लिए अस्पताल में 300 वालंटियर्स एनरोल हुए हैं, जबकि जेजे अस्पताल में फिलहाल एक भी वालंटियर्स नहीं है. लेकिन डॉ. रणजीत ने कहा कि उन्हें हाल में ही अनुमति मिली है और अब वालंटियर्स आना शुरू हो जाएंगे.

ट्रायल इनका होगा सामवेश

ट्रायल में मौजूद कुल वालंटियर्स की संख्या में से 20 प्रतिशत ऐसे लोगों को लिया जाएगा जिन्हें पहले से ही हार्ट, किडनी, लिवर व अन्य बीमारी है. 5 फीसदी फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स का भी ट्रायल में समावेश होगा.

कौन ले सकता है भाग

18 से लेकर 60 से भी अधिक उम्र वाले लोग इस ट्रायल में भाग ले सकते हैं. वालंटियर्स को वैक्सीन देने के बाद 1 वर्ष तक फॉलो अप रखा जाएगा. पहले इंजेक्शन देने के 28 दिन बाद वैक्सीन का दूसरा डोज़ दिया जाएगा.