बीजेपी नेताओं ने खोया मानसिक संतुलन

  • कांग्रेस नेता सावंत का हमला
  • मदरसा बंद करने की मांग पर घेरा

मुंबई. महाराष्ट्र में सत्ता खोने के बाद बीजेपी नेताओं ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है. ऐसे में उन्हें  इलाज की सख्त जरूरत है. यह जोरदार हमला प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने किया है. उन्होंने कहा कि अभी तक प्रदेश बीजेपी के नेता महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार को बदनाम करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन अब वे अपने बड़े नेता  और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भी अपमान कर रहे हैं. 

सावंत ने कहा कि बीजेपी नेता अतुल भातखलकर ने महाराष्ट्र में सभी मदरसों को बंद करने की मांग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता का यह बयान प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी सरकार के उस वादे का अपमान है, जिसमें उन्होंने लोगों से ‘सबका साथ सबका विकास’ का वादा किया था. सावंत ने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल से पूछा है कि क्या सबका विकास सिर्फ चुनावी नारा था. क्या ये नेता इस तरह के गैरजिम्मेदार बयान देने के लिए भातखलकर के खिलाफ कोई कार्रवाई करेंगे. सावंत ने आरोप लगाया कि बीजेपी नेताओं के दिमाग में अभी तक गोलवरकर मौजूद हैं. 

मदरसों के मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने का फैसला 

सावंत ने कहा कि साल 2001 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने साफ किया था कि मदरसों के मामले में बीजेपी सरकार कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी. इसके बावजूद बीजेपी नेता मदरसों को बंद करने की मांग कर रहे हैं.गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान नरेन्द्र मोदी ने भी मदरसों के आधुनिकीकरण की बात कही थी. साल 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी के घोषणा पत्र में भी मदरसों को बेहतर बनाने का वादा किया गया था. जून, 2019 में अल्पसंख्यक विकास मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी मदरसों के विकास के लिए कदम उठाने की बात कही थी. ऐसे में अब बीजेपी नेता मदरसों को बंद करने की मांग कैसे कर सकते हैं.   

कंगना के साथ बीजेपी 

सावंत ने कहा बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर शहर का अपमान किया, लेकिन बीजेपी नेताओं ने एक्ट्रेस की तुलना झांसी की रानी से कर दी. यह बेहद दुखद है.