CM MAH

    मुंबई. बीकेसी (BKC) से वर्ली सी-लिंक (Worli Sea-Link) तक अब बिना किसी रूकावट वाहनों का पहुंचना आसान होगा। सोमवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने  कलानगर जंक्शन पर वर्ली सी लिंक से बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स के फ्लाईओवर (Flyover) का लोकार्पण किया। 

    इस अवसर पर शहरी विकास एवं लोक निर्माण मंत्री एकनाथ शिंदे, अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक, परिवहन  मंत्री अनिल परब, पर्यटन, पर्यावरण एवं मुंबई उपनगर के पालक  मंत्री आदित्य ठाकरे, मंत्री असलम शेख,  मेयर किशोरी पेडनेकर, एमएमआरडीए आयुक्त एस. वी आर श्रीनिवास आदि लोग मौजूद थे।

    बीकेसी में बीता सीएम का बचपन

    मुख्यमंत्री  ठाकरे ने कहा कि मेरा बचपन इसी इलाके में बीता।  1966 से इस वे इस क्षेत्र में रह रहे हैं। इस क्षेत्र से कई यादें जुड़ी हुई हैं। पिछले दशक में इस  क्षेत्र की आबादी तेजी से बढ़ी है। बीकेसी जैसा बहुउदेशीय बिजनेस सेंटर विकसित होने से यातायात भी बढ़ा है। सीएम ने कहा की इस फ्लाईओवर के खुलने से कलानगर जंक्शन और उसके आसपास ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलेगी। सीएम ने कहा कि मुंबई में संसाधनों का विकास तेजी से किया जा रहा है।उन्होंने एमएमआरडीए द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की ।

    लॉकडाउन के चलते हुई देरी

    एमएमआरडीए द्वारा बनाए गए लगभग 715 मीटर के इस ओवरब्रिज का काम जनवरी 2020  में शुरू किया गया था। इस सेकेंड आर्म फ्लाईओवर के मई अंत तक पूरा होने की उम्मीद थी, लेकिन लॉकडाउन के चलते काम में कुछ देरी हुई।  सीलिंक-बीकेसी फ्लाईओवर का पहला हिस्सा फरवरी 2021 में ही शुरू कर दिया गया था। निर्माणाधीन तीसरा फ्लाईओवर  सायन धारावी लिंक रोड (फ्री लेफ्ट) से सी-लिंक की ओर 349 मीटर है। इसके भी नवंबर के अंत तक तैयार होने की उम्मीद है। तीसरे फ्लाईओवर सायन-धारावी लिंक रोड (फ्री लेफ्ट) से सीलिंक के काम का दायरा मेट्रो लाइन एकीकरण योजना के कारण कम हो गया है।

    लागत 103.73 करोड़

    इस ओवरब्रिज पर  दो लेन हैं। इस परियोजना की कुल लागत 103.73 करोड़ रुपये है। एमएमआरडीए की इस परियोजना के तहत तीन फ्लाईओवर प्रस्तावित किए गए थे। इसे सीधे बीकेसी से  सी-लिंक तक जोड़ा गया है। सोमवार से यह यातायात के लिए खोल दिया गया।