corona
File Photo

  • दहिसर,  कांदिवली, घाटकोपर, अंधेरी में कहर बरपारा कोरोना
  • बिना मास्क के घूम रहे लोग
  • लपरवाही बरतने वाले पर सख्ती
  • गुजराती बहुल क्षेत्रों में सर्वाधिक संक्रमित 

मुंबई. वैसे तो पूरी मुंबई कोरोना की गिरफ्त में है, लेकिन मुंबई के 5 वॉर्ड ऐसे हैं जहां कोरोना के मामलों में सबसे तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. ये 5 वॉर्ड भी गुजराती बहुल हैं. मुंबई के बोरीवली, दहिसर, कांदिवली, मुलुंड, घाटकोपर में लोगों की तरफ से बरती जा रही लापरवाही कोरोना मामलों में वृद्धि का कारक बन गई है. 

कांदिवली में भी मरीजों की संख्या 8 हजार के पार 

बीएमसी की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार बोरीवली वर्तमान में कोरोना का हॉट स्पॉट बन चुका है. यहां कोरोना मरीजों की संख्या 10 हजार के करीब पहुंच गई है. कांदिवली में भी मरीजों की संख्या 8 हजार को पार कर गई है. लापरवाही बरत रहे लोगों पर सख्ती की जरूरत है.  के पश्चिम वॉर्ड में अब मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ एक्शन लेने के लिए मार्शल तैनात करने का फैसला किया है. 

4 वार्ड ज्यादा चपेट में

8 सितंबर तक प्राप्त आंकड़ोंं के अनुसार मुंबई के 4 वॉर्ड ऐसे हैं जहां कोरोना मरीजों की संख्या 9 हजार से अधिक हो चुकी है. आर मध्य वॉर्ड बोरीवली 9348, पी उत्तर मालाड 9414, के पूर्व वॉर्ड अंधेरी, जोगेश्वरी, विलेपार्ले पूर्व 9478, के पश्चिम वॉर्ड, अंधेरी, विलेपार्ले पश्चिम, जूहू 9037 मरीज हो चुके हैं. इन वॉर्डों में भी गुजराती नागरिकों की अच्छी खासी संख्या है. 

ज्यादा कंटेनमेंट जोन भी इन्हीं क्षेत्रों में 

मार्च  में कोरोना वायरस की शुरुआत हुई थी तब से लेकर अप्रैल- मई तक यहां मरीजों की संख्या बहुत कम थी. लेकिन अब यही इलाके कोरोना के हॉट स्पॉट बन चुके हैं. चाहे  स्लम हो या इमारत सबसे ज्यादा कंटेनमेंट जोन भी इन्हीं क्षेत्रों में है. के पश्चिम वॉर्ड के सहायक मनपा आयुक्त विश्वास मोटे ने बताया कि सार्वजनिक स्थानों पर निकलते समय मुंह पर मास्क लगाना अनिवार्य है. इसका पालन न करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाती है. उसके बावजूद लोग लापरवाही बरत रहे हैं. अनलॉक  के बाद सड़कों पर भारी भीड़ है, अंधेरी पश्चिम विभाग में  इंडस्ट्री होने से लोगों का आना जाना भी अधिक है. बिना मास्क के घूमने वालों , मास्क का सही इस्तेमाल न करनेवालों व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. नागरिकों को कोविड की भयावहता को देखते हुए स्वतः ही नियमों का पालन करना चाहिए.

जुर्माने की रकम कम होने से नहीं डर रहे लोग

एक तरफ लोग लापरवाही बरत रहे हैं दूसरी तरफ मास्क नहीं पहनने पर लगने वाले जुर्माने को बीएमसी ने कम कर दिया. मास्क नहीं पहनने पर बीएमसी 1000 रुपये दंड वसूलती थी जिसे घटा कर 200 रुपये कर दिया गया. इससे लोगों में भारी जुर्माने का भय भी समाप्त हो जाएगा. मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या 1.63 लाख हो गई है. 8 हजार से ज्यादा लोग कोरोना की बलि चढ़ गए हैं. कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए  बीएमसी ने सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाने, साबुन से हाथ धोने, सेनेटाइजर का उपयोग करने का आवाहन किया था. खासकर मास्क लगाने पर सख्ती की गई थी. लेकिन लोग बीएमसी नियमों की अनदेखी कर रहे हैं. मास्क नहीं लगाने वालों से 5 महीने में  2 हजार 798 लोगों पर  कार्रवाई करते हुए 27 लाख 48 हजार जुर्माना वसूला गया है. 10 हजार लोगों को  चेतावनी देकर छोड़ दिया गया. 

 मुंबई अपनी पुरानी स्थिति में वापस आ रही है

उपायुक्त अशोक यमगर ने बताया कि अनलॉक के बाद मुंबई अपनी पुरानी स्थिति में वापस आ रही है. मुंह पर मास्क नहीं लगाने वालों से 1000 जुर्माना वसूला जा रहा था इससे लोगों में मनपा के बारे में गलतफहमी फैल रही थी. इसलिए जुर्माने की राशि 1000 से घटा कर 200 रुपये की गई है.