Bullet train
FILE

    मुंबई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के ड्रीम प्रोजेक्ट (Dream Project) मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन (Mumbai-Ahmedabad Bullet Train) का काम उनके होम स्टेट में तो तेजी से चल रहा है, परन्तु महाराष्ट्र में इस पर ब्रेक लगा हुआ है। बताया गया कि बुलेट ट्रेन (Bullet Train) के लिए गुजरात (Gujarat) में आवश्यक 95 प्रतिशत जमीन का अधिग्रहण होकर काम की शुरुआत हो चुकी है, जबकि महाराष्ट्र (Maharashtra) में आवश्यक जमीन का अधिग्रहण न होने से काम लटक गया है। 

    मीडिया से बातचीत करते हुए रेलवे बोर्ड के सीईओ एवं चैयरमेन सुनीत शर्मा ने बताया कि गुजरात में भूमि अधिग्रहण हो जाने पर कार्य के टेंडर अवार्ड कर दिए गए, जबकि महाराष्ट्र में भूमि अधिग्रहण की समस्या आ गई। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष शर्मा ने बताया कि वापी तक बुलेट ट्रेन का काम प्रगति पर है, जबकि महाराष्ट्र के पालघर, ठाणे और बीकेसी में भूमि अधिग्रहण को लेकर रुकावट आने से काम का टेंडर नहीं निकल सका। सुनीत शर्मा ने कहा कि बुलेट ट्रेन के भूमि अधिग्रहण को लेकर राज्य सरकार से चर्चा चल रही है। एनएचएसआरसीएल इसे गुजरात की तरफ से तेजी से पूरा करने में लगा है। 

    सरकार बदलते ही लगा ब्रेक

    उल्लेखनीय है कि देश की पहली बुलेट ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलाए जाने का निर्णय मोदी सरकार ने वर्ष 2015 में लिया था। सितंबर 2017 में पहली बार इस परियोजना पर काम शुरू किया गया। बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए महाराष्ट्र में जमीन अधिग्रहण को लेकर शुरू से ही अड़चने आ रहीं हैं। राज्य में सरकार बदलने के बाद तो बुलेट ट्रेन परियोजना के काम पर ब्रेक लग गया।

    508 किमी लंबी परियोजना

    बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए बने नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन की तरफ से लगभग 508 किमी लंबी इस परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण ही बाधा रहा है। गुजरात में लगभग 95 प्रतिशत और महाराष्ट्र में मात्र 22 प्रतिशत जमीन का अधिग्रहण किया जा सका है। 

    2023 था लक्ष्य 

    जापानी कंपनी की सहायता से इस प्रोजेक्ट को वर्ष 2023 में पूरा करने का लक्ष्य था, परंतु पिछले 15 महीनों से लॉकडाउन और राज्य सरकार की तरफ से रुचि न दिखाए जाने पर 24 हजार 985 करोड़ की बुलेट ट्रेन परियोजना का काम धीमा हो गया है। गुजरात में बुलेट ट्रेन पर काम हो रहा है, इसके बावजूद इसका समय पर पूरा होना असंभव दिखाई दे रहा है।