Chandrakant Patil

    मुंबई. मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के पास स्फोटक से भरी स्कार्पियो गाड़ी खाड़ी करने एवं गाड़ी का मालिक होने का दवा करने वाले व्यवसायी मनसुख हिरेन (Mansukh Hiren) की मौत मामले में विवादित पुलिस अधिकारी सचिन वझे (Sachin Vaze) की गिरफ्तारी के बाद भाजपा (BJP) ने ठाकरे सरकार (Thackeray Government) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस मामले में राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) की गिरफ्तारी की भी मांग की जा रही है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) ने सचिन वझे के पूरे एपिसोड का दोष मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कंधों पर डाल दिया है। पाटिल ने कहा है कि यह अत्यंत शर्म का विषय है कि एक पुलिस अधिकारी जिसे राज्य के मुख्यमंत्री कल तक पूरा संरक्षण दे रहे थे, उसे आज राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने एक आतंकी गतिविधि के षड़यंत्र में गिरफ्तार किया है। उन्होंने ठाकरे से सवाल किया है कि क्या अभी भी मुख्यमंत्री को लगता है कि एक भ्रष्ट अधिकारी के पक्ष में सार्वजनिक बयान जारी करके गलत नहीं किया। पाटिल का कहना है कि मुख्यमंत्री ने एक भ्रष्ट अधिकारी के पक्ष में बयान देकर महाराष्ट्र की गरिमा को गहरा ठेस पहुंचाई है।

    भाजपा अध्यक्ष पाटिल ने कहा है कि मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि क्यों शिवसेना पार्टी अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को शिवसैनिक सचिन वझे को बचाने के लिए सामने आना पड़ा। उन्होंने कहा कि हमारी लोकतांत्रिक परंपरा में कोई भी राजनीतिक दल पहले संविधान के प्रति निष्ठा रखता है और फिर जनता के बीच समर्थन जुटाने जाता है, लेकिन यहां शिवसेना तथा मुख्यमंत्री ऐसे व्यक्ति का समर्थंन करने में जुटे रहे, जो देश के सबसे बड़े उद्योगपति को नुकसान पहुंचा कर समाज की शांति भंग करना चाहता था।  

    राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाय 

    राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद नारायण राणे ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की मांग केंद्र सरकार से की है। राणे ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में कहा है कि राज्य की कानून व्यवस्था खराब हो गयी है। पुलिस का इस्तेमाल अंबानी विस्फोटक मामले में निजी उदेश्यों के लिए किया जा रहा है। राज्य में भ्रष्टाचार बढ़ा है एवं विकास अवरुद्ध हो गया है। 

    सचिन वझे का नार्को टेस्ट किया जाय 

    भाजपा प्रवक्ता एवं विधायक राम कदम ने सचिन वझे का नार्को टेस्ट करने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि आखिरकार सचिन वझे को एनआईए ने गिरफ्तार कर ही लिया। क्या अब सचिन वझे को बचाने वाली शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार देश से माफी मांगते हुए सचिन वाजे का नार्को टेस्ट करेगी? उन्होंने आगे कहा कि हमारी मांग है कि सचिन वझे का नार्को टेस्ट कराया जाए, जिससे पता चले कि महाराष्ट्र सरकार उसे बचाना क्यों चाहती थी? राम कदम ने कहा कि ऐसे कौन से नाम हैं, जिनको महाराष्ट्र सरकार बचाना चाहती हैं?  

    कई और पुलिसकर्मी हो सकते हैं शामिल

    भाजपा नेता एवं सांसद किरीट सोमैया ने कहा है कि इस मामले मुंबई पुलिस के कई और पुलिसकर्मी शामिल हो सकते हैं। इससे पहले सोमैया ने मुंबई पुलिस के अधिकारी की गिरफ्तारी न किए जाने पर सवाल उठाए थे। उन्होंने ट्वीट कर यह भी कहा है कि वझे ने तीन व्यावसायिक कंपनी भी बनायी है जिसमें कई लोग निदेशक हैं।