मराठा आरक्षण पर सीएम ठाकरे की माथापच्ची

  • मंत्रियों के साथ बनाई रणनीति
  • सुको के फैसले से सरकार को झटका

मुंबई. मराठा आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ठाकरे सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं.सुको ने अपने अंतरिम आदेश में मराठा समुदाय के लिए सत्र 2020-21 के लिए नौकरी और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण पर रोक लगा दी है.इस फैसले के बाद आगे की रणनीति बनाने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी टीम के साथ खास बैठक की. इस बैठक में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, मराठा आरक्षण  के लिए गठित उप समिति के अध्यक्ष अशोक चव्हाण, सदस्य बालासाहेब थोरात, एकनाथ शिंदे, दिलीप वलसे पाटील, विजय वडेट्टीवार, संसदीय कामकाज मंत्री अनिल परब, राज्य  महाधिवक्ता और विधि विभाग के सचिव समेत कई अधिकारी मौजूद थे.

लोगों को मत करो गुमराह

इस मौके पर कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग मराठा आरक्षण पर लोगों को  गुमराह कर रहे हैं.उन्होंने कहा कि यह समय राजनीति करने का नहीं है. चव्हाण ने  कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से लोगों को निराश होने की जरूरत नहींं है. 11 सितंबर को एक बार फिर बैठक होगी, जिसमेंं सीएम ठाकरे अन्य मंत्रियों के साथ कानून के जानकारों से चर्चा करेंगे, ताकि एक बार फिर मराठा आरक्षण को सुपीम कोर्ट में मजबूती से रखा जा सके.