corona

    सूरज पांडे

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) सहित महाराष्ट्र (Maharashtra) में एक वर्ष बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) फिर से लोगों पर हावी हो गया है। गत वर्ष मार्च महीने में ही वायरस ने पहली बार राज्य में दस्तक दी थी और देखते ही देखते पूरे राज्य को हिला कर रख दिया था। अब एक बार फिर वायरस लोगों के चिंता का कारण बन बैठा है क्योंकि मार्च महीने में राज्य में 28 फीसदी और मुंबई में 25 फीसदी कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में इजाफा हुआ है। एक्सपर्ट्स की मानें तो अभी 10 से 15 दिन मामलों में और वृद्धि होगी उसके बाद मामलों में कमी होने आसार नजर आ रहे हैं।

    राज्य में 10 फरवरी से ही कोरोना संक्रमितों (Corona Infected) की संख्या में इजाफा होने लगा और देखते ही देखते कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave) ने पूरे राज्य को अपनी चपेट में ले लिया है। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) से मिले आंकड़ों का आंकलन करें तो 1 से 28 फरवरी के बीच कोरोना के मामले 7.78 फीसदी के इजाफे के साथ कुल 1,26,723 कोरोना संक्रमित मिले थे। जबकि 1 से 30 मार्च के दौरान कोरोना के मामलों 28.31 फीसदी का इजाफा हुआ और 6,11,969 नए मरीज मिले हैं।  मुंबई की बात करें तो 1 से 28 फरवरी के बीच कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में 5।47 फीसदी का इजाफ़ा हुआ और 16,618 नए केसेस मिले। जबकि मार्च की शुरुआत से अंत तक 82,550 नए मामले आए और मामलों में 25.26 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 

    मामलों में फिलहाल वृद्धि होना तय : डॉ. दक्षा शाह 

    मनपा की उपकार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दक्षा शाह ने कहा कि कोरोना का यह पीक है या नहीं कहना मुश्किल होगा। मामलों में फिलहाल वृद्धि होना तय है शायद इसे कंट्रोल करने में तोड़ा समय लग जाए।

    पॉजिटिविटी रेट में उछाल

    महाराष्ट्र में फरवरी महीने में 16,28,389 टेस्ट किए गए और उसमें 7.78 प्रतिशत लोग पॉजिटिव पाए गए। जबकि मार्च महीने 32,78,707 टेस्ट हुए और पॉजिटिव आने वालों की संख्या 18.66 प्रतिशत तक पहुंच गई। आंकड़े साफ दर्शाते हैं कि टेस्टिंग डबल होते ही पॉजिटिविटी रेट में भी भारी उछाल आया है। मुंबई में  फरवरी महीने 3.36 प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट था जो मार्च में 11 प्रतिशत तक पहुंच गया है।

    मौत की संख्या में 4.28 प्रतिशत का इजाफा

    राज्य में 1 मार्च को कोरोना से मरने वालों की संख्या 52,184 थी जो 30 मार्च तक बढ़कर 54422 तक पहुंच गई है। 30 दिन में 2238 मौत हुई है यानी वायरस से होनेवाली मौत की संख्या में 4.28 फीसदी का इजाफा हुआ है।

    10 फरवरी से मुंबई में दूसरी लहर उठी है। इस दौरान 90000 में कोरोना से संक्रमित मिले हैं। अच्छी बात यह है कि इसमें से 74000 यानी 80 प्रतिशत असिम्प्टोमैटिक्स हैं। शेष बचे मरीजों में से केवल 50 फीसदी को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा है। एक और राहत वाली बात ये है कि दूसरी लहर में मिले 90000 मरीजों में से केवल 271 यानी 0.2 प्रतिशत की मौत हुई है। मेरी मुंबईकरों से अपील है कि वे कोविड नियमों का पालन करें ताकि हम कोरोना पर विजय पा सके।

    -इकबाल सिंह चहल, कमिश्नर, मनपा

    फिलहाल मुंबई सहित महाराष्ट्र में कोरोना के केसेस बढ़ेंगे। टेस्टिंग बढ़ाई गई है तो मामले भी मिलेंगे। आने वाले 10 से 15 दिन मरीजों की संख्या में और भी वृद्धि होगी, लेकिन उसके बाद कोरोना का ग्राफ नीचे आ सकता है। मौत की संख्या में इजाफा नहीं होगा, लेकिन रोजना जो मौत हो रही है उसमें कमी नहीं होगी।

    -डॉ. राहुल पंडित, सदस्य, स्टेट कोविड टास्क फोर्स