Caution: workers of Sevagram and Savangi hospitals also turned positive

मुंबई. मनपा प्रशासन की तरफ से दावा किया गया है कि मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या दोगुना होने की अवधि बढ़ कर 34 दिन हो गयी है, लेकिन उपनगरों में स्थिति अलग है.उत्तर मुंबई के अलावा उत्तर पूर्व मुंबई में भी कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है.दहिसर, बोरिवली, कांदिवली के अलावा मुलुंड एवं भांडुप में कोरोना संक्रमण की रफ्तार मुंबई के दूसरे इलाकों से अधिक है.

 कोरोना के शुरुआती दौर में वरली, प्रभादेवी, भायखला, गोवंडी शिवाजीनगर में वायरस का प्रभाव तेज था,बाद में धारावी एवं अंटापहिल में जोर पकड़ा, लेकिन अब लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद उपनगरों में कोरोना का प्रभाव तेजी से बढ़ रहा है.

मुलुंड में बढ़ रहे मरीज

  मनपा के टी वार्ड यानी कि मुलुंड में 8 जून को कोरोना पॉजिटिव की संख्या 1106 थी, जो 18 जून को बढ़ कर 1736 हो गयी.मुलुंड में कोरोना मरीजों के बढ़ने की रफ्तार 3.5 प्रतिशत है.इसी तरह भांडुप, कंजूरमार्ग एवं पवई इलाके में 8 जून को कोरोना के 2373 मरीज थे, जो 18 जून को बढ़ कर 3399 हो गये. मनपा के एस वार्ड में 3.2 प्रतिशत तीव्र गति से कोरोना अपना प्रभाव दिखा रहा है.बांद्रा-खार पश्चिम में कोरोना का प्रभाव कम हुआ था, लेकिन उसमें फिर बढ़ोत्तरी दर्ज की गयी है.एच पश्चिम वार्ड में कोरोना बढ़ने की रफ्तार 3.1 प्रतिशत है.

शिवाजीनगर गोवंडी में भी कोरोना कंट्रोल में 

 मनपा प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि ई वार्ड में मरीजों के दोगुना की अवधि बढ़ कर 65 दिन एवं एफ उत्तर में 63 दिन हो गयी है.जबकि एच पूर्व में कोरोना की रफ्तार सिर्फ 1 प्रतिशत है. मरीजों के दो गुना की अवधि बढ़ कर 72 दिन हो गयी है. शिवाजीनगर गोवंडी में भी कोरोना कंट्रोल में है.यहां मरीजों की संख्या दो गुना होने का समय बढ़ कर 57 दिन हो गया है.

लोगों में कोरोना का डर

 भांडुप में रहने वाले बीजेपी नेता जे पी सिंह का मानना है कि झोपड़पट्टियों में रहने वाले ज्यादातर लोग गांव चले गए हैं जिसकी वजह से कोरोना कंट्रोल में है अन्यथा स्थिति और विस्फोटक हो सकती थी.मुलुंड के कालोनी इलाके में रहने वाले कांग्रेस के पूर्व नगरसेवक सुनील गंगवानी का कहना है कि लोगों में कोरोना का डर है.झोपड़पट्टी में कोरोना का प्रभाव कम हुआ है, लेकिन सोसायटियों में संक्रमण बढ़ा है.मुलुंड कालोनी क्षेत्र के जय शास्त्रीनगर,टूलिप इमारत एवं रेड वुड सोसायटी में मरीज बढ़े हैं.

सतर्क रहने की जरुरत

लॉकडाउन शिथिल होने के बाद लोगों की आवाजाही बढ़ी है.ऐसे में सतर्कता बरतने से ही कोरोना से बचा जा सकता है.सभी को बेसिक प्रोटोकॉल का पालन करना जरुरी है.नैतिक मूल्यों का पालन कर कोरोना को हराया जा सकता है.

– मिहिर कोटेचा, विधायक

अस्पताल में नहीं मिल रहा बेड

मनपा प्रशासन के दावे के विपरीत मरीजों को अस्पताल में बेड उपलब्ध नहीं हो पा रहा है यह वस्तुस्थिति है.कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर व्यक्तिगत स्तर पर लोगों से सावधानी बरतने के लिए कहा जा रहा है.मुलुंड में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है.  -प्रकाश गंगाधरे, नगरसेवक

नहीं हो रही है जांच

मनपा प्रशासन की तरफ से जो आंकड़े दिए जा रहे हैं कोरोना पॉजिटिव की संख्या उससे बहुत अधिक है.जांच उस पैमाने पर नहीं हो रही है जितनी जरूरत है.बहुत से लोग आपने घर में रह कर ही ठीक हो जा रहे हैं.जब सांस लेने में तकलीफ बढ़ जाती है तभी अस्पताल जा रहे हैं.जिससे आंकड़ा कम दिख रहा है. – ब्रजमोहन (बिरजू) मूंदड़ा, समाज सेवक