Maharashtra gets 9 lakh 63 thousand vaccines: Rajesh Tope

  • मुख्य सचिव की अध्यक्षता में समिति गठित
  • वैक्सीन को विभिन्न स्थानों पर पहुंचाने की व्यवस्था में जुटे अधिकारी

मुंबई. देश में कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगाए जाने की घोषणा अभी नहीं हुई है, लेकिन महाविकास आघाड़ी सरकार की तरफ से राज्य में कोरोना के संक्रमण को रोकने को लेकर टीकाकरण की तैयारी जोर-शोर से शुरू है। टीकाकरण के काम में समन्यव स्थापित करने को लेकर राज्य के मुख्य सचिव संजय कुमार की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गयी है।

यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Health Minister Rajesh Tope) ने दी है। उन्होंने ने कहा कि कोरोना टीकाकरण की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। वैक्सीन को राज्य के विभिन्न स्थानों पर पहुंचाने, इसके लिए वाहन, कोल्डस्टोरेज की व्यवस्था एवं वैक्सीन लगाने के लिए प्रशिक्षण देना इसमें शामिल है। राज्य में कोल्डस्टोरेज की कमी है। केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि इस संदर्भ में दिसंबर-जनवरी तक यंत्रणा उपलब्ध कराई जाएगी। हमने सभी आंकड़े केंद्र सरकार को दिए हैं। केंद्र सरकार यंत्रणा कब उपलब्ध करवाती है, उसका इंतजार किया जा रहा है।

टीकाकरण के दो दिन का प्रशिक्षण दिया जाएगा

टोपे ने बताया कि कोरोना वैक्सीन तैयार करने का काम कुल पांच कंपनियां कर रही हैं। उनका क्लीनिकल ट्रायल (Clinical trial) पूरा हो गया है। अब किस राज्य में किस किस कंपनी को अनुमति देनी है, यह केंद्र सरकार को तय करना है। टीकाकरण के लिए राज्य में एक या दो कंपनियों को अनुमति देने का अधिकार भी केंद्र सरकार के पास है। टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य कर्मचारियों को दो दिन का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसकी शुरुआत हो गयी है।

केंद्र सरकार की तरफ से जारी किए गए सभी दिशानिर्देशों का पालन हम कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने आगे बताया कि सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग एवं पुलिस जवानों को कोरोना की वैक्सीन दी जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य कर्मियों की सूची तैयार करने का काम अंतिम चरण में है। 90 हजार लोगों की सूची तैयार कर ली गयी है। आईएमए के जरिए जानकारी मंगाई जा रही है।

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक

कोरोना टीकाकरण की पूर्व तैयारी को लेकर राज्य स्तरीय विशेषज्ञ समिति की पहली बैठक बुधवार को मुख्य सचिव संजय कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने पूर्व तैयारियों के संदर्भ में प्रजेंटेशन किया। टीकाकरण को लेकर विभिन्न वर्ग के लोगों का 9 गुट तैयार किया गया है। बैठक में बताया गया कि वैक्सीन लगाने के लिए 16,245 कर्मचारियों का को-विन पोर्टल पर पंजीकरण किया गया है, जबकि 90 हजार से अधिक लाभार्थियों का पंजीकरण किया गया है।

लगभग 2 लाख 60 हजार सरकारी स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण किया जाना है। बैठक में शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव वंदना कृष्णा, राजस्व विभाग के अपर मुख्य सचिव नितिन करीर, नगरविकास विभाग के प्रधान सचिव महेश पाठक, श्रम विभग की सचिव विनीता सिंघल, महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव आई ए कुंदन, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव दिलीप पांढरपट्टे, राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के डॉ।रामास्वामी सहित अन्य लोग मौजूद थे।

कोल्डस्टोरेज की व्यवस्था

वैक्सीन को रखने के लिए राज्य में कोल्डस्टोरेज की व्यवस्था की गयी है। बताया गया कि राज्य स्तर पर एक, विभागीय स्तर पर 9, जिलास्तर पर 34, महा मंडल के 27, कोल्डस्टोरेज तैयार हैं। कुल मिलाकर 3  हजार 135 चैन सिस्टम के केंद्र उपलब्ध हैं। स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर वैक्सीन दी जाएगी। एक स्थान पर 100 लोगों के टीकाकरण की व्यवस्था की जा रही है।