Vaccination in Thane Manpa border from 11 am on Saturday
Representative Picture

  • पहले चरण में डेढ़ लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को लगेगी वैक्सीन

मुंबई. कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) आने से पहले ही बीएमसी ने टीकाकरण के लिए कार्य योजना तैयार किया है। मुंबई में बीएमसी की पहली टास्क फोर्स की बैठक में वैक्सीन को लेकर तैयारियों पर मंथन किया गया। बीएमसी के अनुसार कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) के पहले चरण में 1 लाख 25 हजार सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण किया जाएगा। शुरुआत  में आठ स्थानों पर टीकाकरण की सुविधा प्रदान की जाएगी। बीएमसी  के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने बताया कि टीकाकरण कड़ी सुरक्षा के तहत किया जाएगा और टीकाकरण के बाद संबंधित व्यक्ति को 30 मिनट तक वहां रहना होगा।

कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) को लेकर राज्य सरकार और बीएमसी के अधिकारियों की टास्क फोर्स  के बीच एक बैठक आयोजित की गई थी।  इस बैठक में बीएमसी ने टीकाकरण के लिए कार्य योजना प्रस्तुत की।  कंजूरमार्ग सहित दो स्थानों पर टीका भंडारण केंद्र स्थापित किए जाएंगे। इसके अलावा मुंबई शहर के चार प्रमुख अस्पतालों और उपनगर के चार अस्पतालों में वैक्सीन दिया जाएगा।  दिल्ली से आई टास्क फोर्स की टीम ने भी बीएमसी  की तैयारियों की समीक्षा की है। राज्य टास्क फोर्स और दिल्ली में टीम ने बीएमसी को कुछ सुझाव दिए हैं जिसे  लागू किया जा सकता है।

पांच चरण में टीका करण

टीकाकरण अभियान को  पांच चरण में लागू किया जाएगा। पहले दो चरण जिसमें भंडारण और परिवहन शामिल हैं उसके बाद, वास्तविक टीकाकरण तीन चरणों में किया जाएगा।  1 लाख 25 हजार स्वास्थ्य कर्मचारियों का प्रारंभिक टीकाकरण 10 से 15 दिनों में पूरा हो जाएगा।

वास्तविक टीकाकरण के तीन चरण

  • प्रथम चरण में  निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के 1 लाख 25 हजार कोरोना योद्धाओं को वैक्सीन लगाई जाएगी।
  • द्वितीय चरण में  कोविड, तथा अन्य फ्रंट लाइन स्टाफ, पुलिस, बेस्ट स्टाफ, राज्य परिवहन सेवा के कर्मचारियों के साथ काम करने वाले अर्ध-चिकित्सा कर्मचारी, बीएमसी और सफाई कर्मी जिनकी संख्या  5 से 6 लाख है उन्हें वैक्सीन लगाई जाएगी।
  • तृतीय चरण में  50 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों के साथ अस्थमा, मधुमेह, हृदय रोग और कुछ पुरानी बीमारियों वाले मरीजों को वैक्सीन दी जाएगी। मेरा परिवार मेरा अभियान के तहत इन नागरिकों की पहचान की गई है।

ऐसे होगा टीकाकरण

  •  वैक्सीन की दो खुराक 21 से 28 दिनों के अंतराल पर दी जाएंगी।
  •  टीकाकरण के लिए चार कर्मचारी होंगे
  •  डायरेक्ट वैक्सीनेटर, आइडेंटिटी चेकर, हेल्पर और सेफ्टी वॉकर
  •  टीकाकरण के बाद, संबंधित व्यक्ति को 30 मिनट तक केंद्र में रहना होगा
  •  टीकाकरण की अवधि के दौरान संबंधित व्यक्ति पर वैक्सीन को कोई दुष्प्रभाव होता है ? इस पर सरकार की नजर रहेगी।

वैक्सीन मुफ्त में देने का निर्णय के बारे सरकार फैसला करेगी

आम नागरिकों के टीकाकरण के लिए अभी तक कोई योजना नहीं बनाई गई है।  इसके अलावा, अभी तक यह तय नहीं किया गया है कि नागरिकों को वैक्सीन मुफ्त मिलेगी या उसका शुल्क लिया जाएगा यह इस तय नहीं किया गया है।

निजी कंपनियों को दूर रखेंगे

काकानी ने बताया कि इस टीकाकरण अभियान में निजी या संविदा कर्मचारियों की मदद लेने से बीएमसी बचेगी। इस कार्य में ज्यादातर बीएमसी कर्मचारियों को ही शामिल किया जाएगा। टीका करण के लिए  ढ़ाई हजार कर्मचारियों की आवश्यकता होगी। सभी बीएमसी के कर्मचारी होंगे जिन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा।  

जंबो कोविड केंद्र में भी  टीकाकरण

परेल के केईएम, मुंबई सेंट्रल के नायर, सायन स्थित लोकमान्य टिकल अस्पताल में नायर डेंटल अस्पताल में टीकाकरण किया जाएगा। जबकि उपनगर के कुर्ला स्थित भाभा अस्पताल, बांद्रा स्थित भाभा अस्पताल जोगेश्वरी ट्रामा केयर में वैक्सीन दी जाएगी। इसके अलावा जंबो कोविड केंद्रों पर टीकाकरण केंद्र स्थापित करने की भी योजना विचाराधीन है।

केंद्र सरकार ने टीकाकरण के लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया है।  इस सॉफ्टवेयर में पहले से ही व्यक्ति के टीकाकरण की जानकारी होगी।  संबंधित  व्यक्ति को मोबाइल पर एक ओटीपी नंबर भेजा जाएगा। यह संख्या टीकाकरण केंद्र पर सत्यापित की जाएगी। नंबर की पुष्टि होने के बाद, संबंधित व्यक्ति को टीका लगाया जाएगा। जिनके पास मोबाइल नहीं हैं, उनके लिए पिन कोड या अन्य नंबर का उपयोग करने का विचार है।