dadar MANDI
FILE

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) सहित राज्य में तेजी से बढ़ रहे कोरोना मरीजों (Corona Patients) को कंट्रोल करने के लिए सोमवार से कई प्रतिबंध (Restriction) लगाए गए हैं। इसमें वे स्थान भी शामिल हैं जहां लोगों की भीड़ जुटती है, लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। कठोर प्रतिबंध के बाद भी दादर (Dadar) की फूल और सब्जी मंडी में लोगों का हूजुम दिख रहा है। चार दिन पहले ही महापौर किशोरी पेडणेकर (Mayor Kishori Pednekar) ने इन मंडियों को विभाजित करने के लिए कहा था, लेकिन मंडी को शिफ्ट नहीं किया जा सका है। भीड़ के कारण सोशल डिस्टेसिंग की ही धज्जियां उड़ रही हैं। 

    मुंबई के दादर स्थित सब्जी मंडी और फूल मार्केट में जुट रही भीड़ बीएमसी प्रशासन के तमाम दावों की पोल खोल रही है। बीएमसी के अधिकारी भीड़ नहीं करने का केवल अपील कर अपना हाथ झटक रहे हैं, लेकिन वहां जमा हुए लोगों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है। 

    अधिकारियों की अपील बेअसर हो रही 

    मुंबई में रात 8 बजे से सुबह 7 बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगा हुआ है। इस आदेश को ठेंगा दिखाते हुए सुबह 10 बजे तक भीड़ जमा हो रही है। यहां जमा होने वाले लोगों पर न तो कोरोना का खौफ है और न ही बीएमसी प्रशासन का। सब्जी खरीदने आने वालों के मुंह पर मास्क भी नहीं रहता है। सोशल डिस्टेसिंग को तो लोग पैरों के नीचे ही रौंद कर आगे बढ़ जा रहे हैं। महापौर ने दादर की सब्जी मंडी और फूल बाजार को 3 स्थानों पर विभाजित करने का आदेश दिया था जिससे भीड़ को टाला जा सके, लेकिन बीएमसी के अधिकारी उनकी भी बात नहीं मान रहे हैं। अधिकारियों की अपील बेअसर हो रही है। यही हाल रहा तो भविष्य में पूर्ण लॉकडाउन से भी इंकार नहीं किया जा सकता है।