राज्य सरकार की सिफारिश पर फैसला जल्द : पश्चिम रेलवे

  • राज्य सरकार के प्रस्ताव में बदलाव संभव

आनंद मिश्र

मुंबई. आम लोगों के लिए लोकल शुरू करने के लिए महाराष्ट्र सरकार के प्रस्ताव के मद्देनजर पश्चिम रेलवे ने कहा है कि जल्द ही सभी स्टेक होल्डर्स मीटिंग कर किसी अंतिम नतीजे पर पहुंचेंगे और फिर उसे रेलवे बोर्ड को फाइनल अप्रूवल के लिए भेज दिया जाएगा.

पश्चिम रेलवे के मुख्य प्रवक्ता सुमित ठाकुर ने ‘नवभारत’ को बताया कि राज्य सरकार के आपदा प्रबंधन, मदद व पुनर्वास विभाग पत्र बुधवार को प्राप्त होने के बाद गुरुवार से ही सभी स्टेक होल्डर्स जैसे कि पश्चिम रेलवे के अलावा मध्य रेलवे, जीआरपी और आरपीएफ की मीटिंग होगी जिसमें आम लोगों के लिए अलग-अलग समय में लोकल चलाने के तौर तरीके निश्चित किए जाएंगे, ताकि कोविड गाइडलाइन का यथासंभव पालन हो सके.

 रेलवे पुलिस के अधिकारियों से भी उनके इनपुट लिए जाएंगे 

ठाकुर ने यह भी बताया कि राज्य सरकार द्वारा भेजा गया पत्र एक प्रस्ताव है और इसमें थोड़ा बहुत बदलाव किया जा सकता है और यह बदलाव सभी स्टेक होल्डर्स की मीटिंग में उनके इनपुट्स से ही प्राप्त किये जा सकते हैं. ठाकुर ने कहा कि सभी अधिकारियों की मीटिंग में इस बात का ध्यान भी रखा जाएगा कि आम लोगों के लिए लोकल चलाने में कहीं कोई व्यवहारिक दिक्कतें ना आये और इसीलिए इन मीटिंग में पश्चिम रेलवे के अलावा सेंट्रल रेलवे, मुंबई पुलिस और रेलवे पुलिस के अधिकारियों से भी उनके इनपुट लिए जाएंगे और किसी अंतिम निर्णय पर पहुंचा जाएगा. ठाकुर ने यह भी बताया कि रेलवे की तरफ से एक या दो दिन में सारे इनपुट्स दे दिए जाएंगे. गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते पिछले सवा सात माह से आम यात्रियों के लिए ठप मुंबई लोकल के दरवाजे आम लोगों के लिए खोलने राज्य सरकार तैयार हो गई है और बुधवार को राज्य सरकार के आपदा प्रबंधन, मदद और पुनर्वास विभाग ने मुंबई लोकल आम लोगों के लिए शुरू किए जाने का प्रस्ताव रेल प्रशासन को भेज दिया है. राज्य सरकार ने टाइम स्टेगरिंग के साथ सभी के लिए लोकल शुरू किए जाने का सुझाव दिया है. 

सभी लोगों के लिए यात्रा करने का प्रस्ताव

मध्य और पश्चिम रेल को भेजे गए प्रस्ताव में तड़के लोकल शुरू होने से सबेरे 7.30 बजे तक सभी लोगों के लिए सबेरे 8 से 10.30 बजे तक सिर्फ अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए सबेरे 11 से शाम 4.30 बजे तक सभी लोगों के लिए और शाम 5 से 7.30 बजे तक अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए और फिर रात को 8 बजे से अंतिम लोकल तक सभी लोगों के लिए यात्रा करने का प्रस्ताव है. इसके अलावा, महिलाओं के लिए हर घंटे लेडीज स्पेशल ट्रेन चलाने की सिफारिश भी राज्य सरकार ने रेलवे से की है.