टाटा स्टील के लिए रेल वर्कशॉप में तैयार डीजल लोको

  • मध्य रेल के परेल कारखाने में बने हैं 217 लोकोमोटिव

मुंबई. मध्य रेल के परेल लोको वर्कशॉप में जमशेदपुर स्थित टाटा स्टील प्लांट के लिए लोकोमोटिव तैयार किया गया. यह लोको लुक और परफॉर्मेंस के मामले में नए लोको जैसा ही है. यह कार्य नए लोको की आधी लागत पर पूरा किया गया है. मध्य रेल का परेल वर्कशॉप निजी क्षेत्र के लिए एक प्रभावी  विकल्प के रूप में उभरा है. इससे प्रभावित होकर मेसर्स टाटा स्टील प्लांट,जमशेदपुर ने 2 और लोकोमोटिव्स के ओवरहॉलिंग और नवीनीकरण का प्रस्ताव दिया है.

 इस लोकोमोटिव में कई उन्नत तकनीकी विशेषताएं हैं. इसकी सरंचना भारी 30T हवाई जहाज़ के पहिये की तरह है. बिजली और इस्पात संयंत्रों के लिए एक लंबे और भारी भार खींचने में सक्षम है. प्रभावी नियंत्रण और ईंधन की बचत के लिए माइक्रो कंट्रोलर आधारित गवर्नर के साथ माइक्रोप्रोसेसर आधारित नियंत्रण प्रणाली का प्रावधान है. 

परेल वर्कशॉप को अतिरिक्त आय होगी

लोको की आयडिलिंग के दौरान ईंधन की बचत के लिए सहायक विद्युत इकाई. स्टिक टाइप मास्टर कंट्रोलर और संबंधित ऑडियो-विजुअल संकेतक के साथ एर्गोनोमिक कंट्रोल डेस्क के साथ ड्राइवर केबिन व्यवस्था से लैस. अल्टरनेटर जनरेटर के साथ अल्टरनेटर माउंटेड रेक्टिफायर का प्रावधान, गियर बॉक्स और पावर टेक ऑफ यूनिट के साथ एक्साइटर, ‘आत्मनिर्भर भारत’ मिशन को बढ़ावा देने के साथ परेल वर्कशॉप को अतिरिक्त आय  होगी. परेल वर्कशॉप ने अब तक 217 ब्राडगेज डीजल इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव का निर्माण किया है, जिसमें 142 डब्ल्यूडीएस 6 (1350 एचपी) लोकोमोटिव शामिल हैं. परेल में निर्मित 142 WDS6 (1350 HP) लोकोमोटिव में से 111 लोको स्टील, बिजली, बंदरगाह और रसद आदि के क्षेत्र में नॉन रेलवे ग्राहकों के लिए कार्य किए गए हैं.