विशेष लोकल में यात्रा के लिए ई-पास जरूरी

  •  रेलवे ने राज्य सरकार से कहा- जल्द जारी हो, ई-पास

मुंबई. राज्य व केंद्र सरकार के अत्यावश्यक कर्मचारियों व स्वास्थ्यकर्मियों के लिए चलाई जा रही विशेष लोकल में ई-पास अनिवार्य रूप से जारी किए जाने को लेकर रेलवे ने राज्य सरकार को कहा है. 15 जून से मुंबई में अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए मध्य व पश्चिम रेलवे पर विशेष लोकल चलाई जा रही है. बताया गया है कि विशेष लोकल में यात्रा करने वाले राज्य व केंद्र के कर्मचारियों का आई-कार्ड देखकर उन्हें स्टेशनों पर प्रवेश दिया जा रहा है, परन्तु इस दौरान रेलवे स्टॉफ को कई समस्याएं आ रहीं हैं.कई सरकारी कर्मचारियों का आई-कार्ड स्पष्ट न होने से वाद-विवाद की नौबत आ रही है.ऐसे कई मामले सेंट्रल रेलवे पर आए हैं.

पश्चिम रेलवे के उपनगरीय स्टेशनों पर की जा रही उद्घोषणा 

पश्चिम रेलवे के उपनगरीय स्टेशनों पर तो क्यूआर कोड आधारित ई-पास के साथ यात्रा किए जाने की बकायदा उद्घोषणा की जा रही है.बताया गया है,कि 20 जुलाई तक ई-पास जारी करने के लिए राज्य सरकार को कहा गया है,अन्यथा अत्यावश्यक कर्मचारियों को यात्रा करने में कठिनाई आ सकती है.मध्य रेलवे के सीपीआरओ शिवाजी सुतार ने कहा कि अत्यावश्यक कर्मचारियों को यात्रा में सुविधा के लिए क्यूआर कोड आधारित ई-पास जारी करने के लिए पहले से ही राज्य सरकार को कहा गया है. रेल विभाग भी समन्यव कर रहा है.

पश्चिम रेलवे पर 24.57 लाख ने की यात्रा

पिछले लगभग एक माह में पश्चिम रेलवे की विशेष लोकल में 24 लाख 57,442 अत्यावश्यक कर्मचारियों ने यात्रा की.वैसे इस समय रोजाना लगभग 1.20 लाख तक अत्यावश्यक कर्मचारी पश्चिम रेलवे की 350 लोकल फेरियों से यात्रा कर रहे हैं.इसी प्रकार मध्य रेलवे की 352 लोकल फेरियों से रोजाना लगभग एक लाख कर्मचारी यात्रा कर रहे हैं.इन विशेष लोकल ट्रेनों में राज्य-केंद्र के विभिन्न विभागों के कर्मचारी, मनपा, पुलिस, सरकारी बैंक, स्वास्थ्य विभाग, कोर्ट आदि विभगों से जुड़े कर्मचारियों को यात्रा की इजाजत दी गई है.राज्य सरकार जल्द ही इन सभी आवश्यक कर्मचारियों को विशेष लोकल ट्रेन में यात्रा के लिए क्यूआर कोड पर आधारित ई-पास जारी करेगी.