अंतत: सीएम ने दिया कांग्रेस को समय, मिलने के बाद थोरात बोले- कोई नाराजगी नहीं

मुंबई. आखिरकार काफी जदोजहद के बाद गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नाराज कांग्रेस मंत्रियों को मिलने का समय दिया.कांग्रेस की ओर से प्रदेश अध्यक्ष व राजस्व मंत्री बाला थोरात और पीडब्लूडी मंत्री अशोक चव्हाण  मुख्यमंत्री ठाकरे के बुलावे पर मातोश्री पहुंचे, जहां इन नेताओं के करीब एक घंटे तक चर्चा हुई. 

कांग्रेस के इन दो वरिष्ठ नेताओं के पहुंचने के पहले शिवसेना सांसद संजय राउत मातोश्री में पहले दाखिल हो चुके थे. राउत ने हाल ही में नाराज कांग्रेस मंत्रियों पर तंज कसते हुए कांग्रेस को पुरानी खाट बताया था. कांग्रेस मंत्री सरकार में  बराबर की  हिस्सेदारी न मिलने से नाराज थे.अशोक चव्हाण ने सरकार में सरकारी अफसरों की बढ़ती दखलअंदाजी पर भी ऐतराज जताया था.

ठाकरे सरकार में ऑल इज वेल

मीटिंग के बाद मीडिया से बात करते हुए बाला थोरात ने कहा कि ठाकरे सरकार में ऑल इज वेल है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के साथ उनकी चर्चा सकारात्मक रही. थोरात ने कहा कि प्रशासकीय मुद्दों को लेकर हमारी कुछ मांगें थी. इन मांगों को लेकर हम लोगों ने मुख्यमंत्री ठाकरे को अवगत करा दिया है. उन्होंने कहा कि सरकार में किसी तरह का कोई व्यक्तिगत विवाद नहीं है.

विधान परिषद में बराबर सीटें

थोरात ने कहा कि विधान परिषद की खाली हुई 12 सीटों का सरकार में शामिल तीनों दलों के बीच बराबर बंटवारा होगा. उन्होंने कहा कि सरकार के गठन के समय सीटों के हिसाब से पार्टियों के मंत्रियों की संख्या तय की गई थी, लेकिन अब बंटवारा बराबर का होगा. इसके अलावा कांग्रेस डेवलपमेंट फंड का भी पार्टियों के बीच समान बंटवारे के पक्ष में है. थोरात ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने न्याय योजना का खाका पूरे देश में लागू करने के लिए बनाया है.  कांग्रेस की प्राथमिकता है कि किसी भी तरह से  गरीबों की मदद जरुर होनी चाहिए.