3 महीने से जरूरतमंदों को भोजन और राशन

– ‘यात्रा एक राह’ संस्था का सराहनीय अभियान

मुंबई. वैश्विक महामारी कोरोना के कारण सरकार द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन में जरूरतमंद लोगों तक पिछले 3 महीने से भोजन और राशन वितरित किया जा रहा है. सामाजिक संस्था यात्रा एक राह के माध्यम से महाराष्ट्र पुलिस महानिदेशक (एमएसएफ के प्रबंध निदेशक) डॉ. कनकरत्नम की धर्मपत्नी डॉ. सुचरिथा कनकरत्नम ने अन्नदान अभियान चलाया हुआ है. 

नेहरू युवा केंद्र मुंबई से संबद्ध यात्रा एक राह के माध्यम से झोपड़पट्टियों में रहने वाले गरीब लोगों के लिए कार्य करने वाली डॉ. सुचरिथा ने बताया कि पति की प्रेरणा और परिवार वालों के उत्साह बढ़ाने से मुझे और शक्ति मिलती है. इसमें मेरी बेटियां मृणालिका देवरापल्ली और प्रवल्लिका देवरापल्ली भी पूरा सहयोग करती हैं.इनके साथ हम झोपड़पट्टियों में रहने वाले अत्यंत कमजोर वर्ग के लिए सुबह भोजन के पैकेट और शाम को राशन किट का वितरण करते है.

राशन किट वितरित कर रहे 

डॉ. सुचरिथा कनकरत्नम के मार्गदर्शन में दिए जाने वाले इस राशन किट में 10 से 15 दिनों के लिए राशन प्रदान किया जाता है. उन्हें सुबह भोजन और शाम को राशन किट दिया जाता है. संस्था के स्वयंसेवक सिवड़ी, माटुंगा, धारावी, ट्राम्बे, मस्जिद बंदर जैसे स्लम एरिया के विभिन्न स्थानों में राशन किट वितरित कर रहे हैं. इसमें आटा, चावल, दाल, चीनी, नमक, खाद्य तेल, आचार पैकेट आदि का समावेश रहता है. अभी तक 1500 परिवारों को सहयोग दिया जा चुका है.शुरुआत में मनपा और निजी किचन के सहयोग से हम रोज 1000 भोजन के पैकेट वितरित करते थे. अभी भी माटुंगा और किंग्सर्कल की झोपड़ियों में 200 खाने के पैकेट वितरित कर रहे हैं. प्रतिदिन 800 लोगों को पौष्टिक खिचड़ी दी जाती है.