बैंक के जब्त फ्लैट दिलाने के नाम पर ठगी

  • 3 करोड़ की धोखधड़ी

मुंबई. क्राइम ब्रांच ने बैंक के जब्त किए गए फ्लैट सस्ते में दिलाने के नाम पर मुंबई से 3 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी कर फरार आरोपी सचिन विलास बोरडे (30) को नाशिक से गिरफ्तार किया है. वह लोगों को चूना लगा कर एक साल से फरार था और नाशिक में पहचान बदल कर रह रहा था. वह इस्टेट एजेंट से मिलकर बैंक अधिकारियों से जान पहचान का झांसा देकर लोगों को धोखाधड़ी का शिकार बनाता था. 

आरोपी नाशिक से गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच युनिट-12 के सहायक पुलिस निरीक्षक विक्रम कदम को गुप्त सूचना मिली कि दहिसर समेत मुंबई के पश्चिमी उपनगर में बैंक के जब्त फ्लैट सस्ते में दिलाने का झांसा देकर लोगों से 3 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी कर फरार आरोपी नाशिक में रह रहा है. संयुक्त पुलिस आयुक्त (क्राइम) मिलिंद भारंबे और पुलिस उपायुक्त अकबर पठान के मार्गदर्शन में क्राइम ब्रांच के प्रभारी पुलिस निरीक्षक महेश तावडे, सहायक पुलिस निरीक्षक विक्रम कदम, उप निरीक्षक हेमंत गीते की टीम ने ट्रैप लगाकर आरोपी सचिन विलाश बोरडे को नाशिक से गिरफ्तार किया. जब उससे पूछताछ की गयी, तो पता चला कि उसने कई लोगों को फ्लैट दिलाने का झांसा देकर लाखों रुपए ठगा है. वह लोगों को घर के फ्लैट के एलाटमेंट और एग्रिमेंट के फर्जी कागजात बनाकर दिया करता था.