Monsoon session of Maharashtra Legislature adjourned till August

  • अनुपूरक मांगों व शक्ति अधिनियम पर जोर
  • बीजेपी, किसान व कोरोना पर करेगी हंगामा

मुंबई. सोमवार से शुरू हो रहे महाराष्ट्र विधानमंडल के दो दिवसीय शीतकालीन सत्र (winter session) के लिए ठाकरे सरकार (Thackeray government) ने अपना एजेंडा सेट कर लिया है। इस सत्र में सरकार अनुपूरक मांगों तथा महिलाओं एवं बच्चों के विरुद्ध अपराधों पर अंकुश वाले केंद्रित प्रस्तावित शक्ति अधिनियम से संबंधित विधेयकों को पारित कराने पर बल देगी।

हालांकि बीजेपी ने किसानों की समस्या व कोरोना महामारी (Corona epidemic) को लेकर ठाकरे सरकार को घेरने का प्लान बनाया है। इससे पहले विधानसभा में नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार बाढ़ व चक्रवात से परेशान किसानों को राहत देने में असफल रही है। उन्होंने कोरोना से निपटने के लिए बनाई गई योजनाओं में करप्शन का भी आरोप लगाया है।

फडणवीस ने आरोप लगाया था कि सरकार अपनी नाकामियों से बचने के लिए 2 दिन का सत्र बुलाया है। उन्होंने सत्र की अवधि को बढ़ाने की मांग की थी। महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार ने हाल ही में विधान परिषद की छह में से चार सीटें जीतीं हैं। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सत्र के पहले दिन शोक प्रस्ताव के अलावा सत्र में अनुपूरक मांगों को मंजूरी दिलाई जाएगी और प्रस्तावित शक्ति अधिनियम से संबंधित विधेयक पेश किए जाएंगे। हालांकि माना जा रहा है कि शोक प्रस्ताव के बाद बीजेपी सदन में किसान व कोरोना पर चर्चा की मांग कर हंगामा कर सकती है।