Solving the problems of the underprivileged is the priority - Nawab Mohammad Islam Malik

मुंबई. महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी रिपब्लिक चैनल के एडिटर अर्नब गोस्वामी को लेकर गृहमंत्री अनिल देशमुख को फोन कर एक बार फिर विवादों में आ गए हैं. एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अगर राज्यपाल कोश्यारी आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार अर्नब के प्रति सहानुभूति रखने की बजाय इंटीरियर डिजानर अन्वय नाइक के परिवार के प्रति सहानुभूति दिखाई होती तो बेहतर होता. उन्होंने राज्यपाल के इस कदम पर नाराजगी जताई है. 

मलिक ने कहा कि हर कैदी के स्वास्थ्य और सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की होती है. जेल के नियम के तहत रिश्तेदारों को कैदी से मिलने की अनुमति भी दी जाती है. यह एक नियमित प्रक्रिया है, लेकिन जिस तरह से राज्यपाल ने विशेष कैदी के रूप में अर्नब के प्रति सहानुभूति दिखाई है, उससे सवाल खड़े हो रहे हैं. 

कैबिनेट मंत्री मलिक ने उठाए सवाल 

उन्होंने कहा कि अर्नब को एक गंभीर अपराध के मामले में गिरफ्तार किया गया है और इसलिए अगर राज्यपाल को किसी से सहानुभूति दिखाना चाहते हैं, तो उन्हें नाइक परिवार को दिखाना चाहिए था.यह परिवार पिछले कई महीनों से न्याय के लिए भटक रहा था. मलिक ने कहा कि एक आरोपी की जगह यदि राज्यपाल ने पीड़ित परिवार का पक्ष लिया होता तो ज्यादा बेहतर होता.