यशवंत जाधव की स्थायी समिति में हैट्रिक

  • मकरंद नार्वेकर स्थायी और शिक्षा समिति के लिए सुरेखा पाटिल बीजेपी उम्मीदवार

मुंबई. मुंबई महानगरपालिका के हाउस में समितियों के लिए हो रहे चुनाव में शिवसेना ने एक बार फिर स्थायी समिति अध्यक्ष के लिए यशवंत जाधव पर भरोसा जताया है. यशवंत जाधव से नाराज चल रहे नगरसेवकों ने जाधव को समिति अध्यक्ष पद से हटाने का अभियान चलाया था, लेकिन वे हैट्रिक लगाने में कामयाब रहे. 

शिवसेना को घेरने में लगी बीजेपी और कांग्रेस ने भी अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं. बीजेपी ने स्थायी समिति अध्यक्ष पद के लिए मकरंद नार्वेकर और शिक्षा समिति अध्यक्ष के लिए सुरेखा पाटिल को उम्मीदवार बनाया है. पिछले चुनाव में कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार नहीं उतारे थे लेकिन इस बार स्थायी समिति के लिए आसिफ जकारिया और शिक्षा समिति के लिए संगीता हंडोरे को खड़ा किया है.

शिव सैनिक हैं नाराज !

शिक्षा समिति अध्यक्ष पद के लिए राष्ट्रवादी से शिवसेना में आने वाली संध्या दोशी को शिक्षा समिति का अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाये जाने से वरिष्ठ शिवसैनिको में तीव्र असंतोष फैला हुआ है. मनपा की स्थायी समिति और शिक्षा समिति का चुनाव आगामी 5 अक्टूबर को होने जा रहा है. बुधवार को यशवंत जाधव और संध्या दोशी ने मनपा सचिव संगीता शर्मा के पास नामांकन दाखिल किया. यशवंत जाधव तीसरी बार स्थायी समिति अध्यक्ष के लिए नामांकन दाखिल कर हैट्रिक बनाने जा रहे हैं. कोरोना संकट के समय यशवंत जाधव और महापौर किशोरी पेडणेकर के बीच चल रहे शीतयुद्ध के कारण चर्चा थी कि यशवंत जाधव का पत्ता कट सकता है, लेकिन जाधव स्थायी समिति अध्यक्ष पद बचाने में सफर रहे. बीजेपी ने शिवसेना को घेरने के लिए मनोनीत नगरसेवक भालचंद्र शिरसाट को स्थायी समिति में भेजा है. अनुभवी नगरसेवक को काउंटर करने के लिए यशवंत जाधव को तीसरी बार अध्यक्ष बनाने के लिए शिवसेना के पास पर्याय ही नहीं बचा था. 

संध्या दोशी को उम्मीदवारी 

शिक्षा समिति पर अंजलि नाईक के बाद मंगेश सातमकर और सुभदा गुडेकर में से किसी एक को मौका मिलने की उम्मीद थी, लेकिन शिवसेना ने संध्या दोशी को उम्मीदवारी देकर बीजेपी के गढ‍़ में बोरीवली में खुद को मजबूत करने का प्रयास किया है. पिछली बार संध्या दोशी को आर उत्तर और आर मध्य वार्ड प्रभाग समिति अध्यक्ष का पद दिया गया था.

शिक्षा समिति में नगरसेवक

  • शिवसेना       : 11
  • भाजप         :  09
  • कांग्रेस         : 04
  • राष्ट्रवादी कांग्रेस  : 01
  • समाजवादी पार्टी  : 01

स्थायी समिति में नगरसेवक

  • शिवसेना       : 11
  • भाजप         : 10
  • काँग्रेस         : 03
  • राष्ट्रवादी काँग्रेस : 01
  • समाजवादी पार्टी : 01