शुरू हुआ भगवती अस्पताल का आईसीयू

– किसी ने काटा फीता, किसी ने दिल जीता

– भाजपा ने सेना पर लगाया श्रेय लेने का आरोप

– सवालों में मनपा प्रशासन, कैसे भंग हुआ अनुशासन

मुंबई. एक तरफ उत्तर मुंबई की जनता कोरोना के कहर से जूझ रही है तो दूसरी तरफ राजनीतिक दलों में कार्यों की श्रेय लेने की होड़ मची हुई है. इस सब के बीच क्षेत्र की जनता और मनपा प्रशासन पिस रही है. इसका नजारा बोरीवली पश्चिम स्थित हरिलाल भगवती अस्पताल के आईसीयू के उद्घाटन में देखने को मिला. लगभग 6 साल से बंद भगवती अस्पताल के आईसीयू विभाग को फिर से शुरू करने के लिए भाजपा की तरफ से काफी मशक्कत की गई थी. 

वार्ड नं. 8 के स्थानीय भाजपा नगरसेवक हरीश छेड़ा ने बताया कि उत्तर मुंबई के सांसद गोपाल शेट्टी और स्थानीय विधायक मनीषा चौधरी के मार्गदर्शन में हमने मनपा के संबंधित विभाग से लंबे फॉलोअप के बाद आईसीयू को शुरू करने की मंजूरी प्राप्त की थी. विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष प्रवीण दरेकर ने भी दो दिन पूर्व भगवती अस्पताल का जायजा लिया था. उसके एक दिन पूर्व जब ऑक्सीजन सिलेंडर आए थे तो मेरे साथ सांसद गोपाल शेट्टी ने भी अस्पताल का निरीक्षण किया था. उस समय अस्पताल की डीन डॉ. प्रतिमा पाटिल भी मौजूद थीं.

भाजपा ने लगाया शिवसेना पर श्रेय लेने का आरोप

सोमवार को शिवसेना विधायक (विधान परिषद सदस्य) विलास पोतनीस, राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त विनोद घोसालकर ने कार्यकर्ताओं के साथ भगवती अस्पताल के आईसीयू का फीता काटकर उद्घाटन कर दिया. इसके बाद भाजपा ने शिवसेना पर श्रेय लेने का आरोप लगाते हुए कहा कि हम इस प्रकार के लोकापर्ण की कड़ी निंदा करते है. जनता सच्चाई जानती है. हमने उनका दिल जीता है तभी तो उनका हम पर भरोसा बना हुआ है. छेड़ा के अनुसार मैं वार्ड नंबर 8 का नगरसेवक हुं जिसमें भगवती अस्पताल स्थित है. इसके बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं दी गई. यहां तक ​कि स्थानीय सांसद गोपाल शेट्टी और स्थानीय विधायक मनीषा चौधरी को भी नहीं सूचित किया गया. वहीं इस मामले में अस्पताल प्रशासन की तरफ से नाम न छापने की शर्त पर बताया गया कि मनपा द्वारा कोई भी उद्घाटन समारोह नहीं आयोजित किया गया.

हमारे प्रयास को महापौर की मंजूरी

मारे शिवसेना के विधायक विलास पोतनीस ने अमेय घोले के साथ महापौर के साथ बैठक कर 10 बेड वाले आईसीयू की मंजूरी प्राप्त की थी. इसीलिए गत दिनों महापौर ने भगवती अस्पताल का जायजा लिया था. हम पर गलत आरोप लगाए जा रहे हैं.  -अभिषेक घोसालकर, पूर्व शिवसेना नगरसेवक