मुंबई में कोविड सेंटरों को तैयार रहने के निर्देश

  • 'मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ के परिणाम का होगा सर्वे

 मुंबई. मुंबई में कोरोना की दूसरी लहर आने की संभावना के मद्देनजर  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की तरफ से मिले निर्देशों के पालन में बीएमसी अधिकारी जुट गए हैं. बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने मुंबई में संचालित सभी कोविड सेंटरों को तैयार रहने का निर्देश दिया है. 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को समीक्षा बैठक में कहा था कि पश्चिमी देशों में कोरोना की दूसरी लहर देखी जा रही है. मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या में भले ही अभी कमी आई है, लेकिन दूसरी लहर आने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. इसलिए उससे निपटने की पहले से ही तैयारी होनी चाहिए. 

दीपावली के बाद आने वाला 15 दिन बहुत महत्वपूर्ण

 मुख्यमंत्री से मिले निर्देश के बाद बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने अधिकारियों को स्पष्ट आदेश दिया है कि दीपावली के बाद आने वाला 15 दिन बहुत महत्वपूर्ण है. उसे ध्यान में रखते हुए कोविड सेंटरों को तैयार रखें और अस्पतालाें और कोविड सेंटरों में दवाओं की उपलब्धता की भी तैयारी रखें. 

गाइडलाइन का कठोरता से पालन करना होगा

राज्य टास्क फोर्स के अध्यक्ष डॉ. संजय ओक ने बताया कि कोरोना मरीजों में कमी आ रही है जिससे लोग लापरवाह हो रहे हैं. इसी लापरवाही के कारण बिना मास्क के सार्वजनिक स्थानों पर निकल रहे हैं. बिना मास्क के बाहर निकलने वालों पर कठोर कार्रवाई कर दूसरी लहर के संकट से बचा जा सकता है. लोगों को सरकार की तरफ से कोविड वायरस संक्रमण रोकने के लिए जारी की गई गाइडलाइन का कठोरता से पालन करना होगा. 

छूट का लोगों ने दुरुपयोग किया

गणेशोत्सव त्योहार के बाद जिस तेजी से कोरोना की वापसी हुई थी उसको लेकर बीएमसी अधिकारी सहम गए थे. गणेशोत्सव में  मिली छूट का लोगों ने दुरुपयोग किया. 4 महीने में काेरोना  वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने में जितनी सफलता मिली थी सब पर पानी फिर गया था. मुंबई में गणेशोत्सव त्योहार के बाद कोराेना का विकराल रुप दिखा जब एक दिन में  मरीजों की संख्या 2500 तक पहुंच गया. बीएमसी को उससे सीख मिली है. अधिकारी भविष्य में उस गलती को दोहराना नहीं चाहते हैं. दीवाली के बाद का 15 दिन महत्वपूर्ण है क्योंकि उस समय ज्यादा संख्या में लोग एक दूसरे के संपर्क में आते हैं. 

मुंबई में कोविड की जांच के लिए ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ अभियान का परिणाम मुंबई में कितना सार्थक रहा, इस संदर्भ में टाटा इन्स्टीट्यूट ऑफ सोशल सायन्स (टीआयएसएस) संस्था अध्ययन करेगी. कोविड मुफ्त जांच के लिए 244 केंद्र शुरु हैं.  प्रतिदिन 20 हजार लोगों की जांच करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इसके अलावा मास्क नहीं पहनने वालों पर कार्रवाई के अतिरिक्त मानवबल की नियुक्ति की जा रही है.   -इकबाल सिंह चहल, कमिश्नर, मुंबई महानगरपालिका