Raut will have to tell who is 'haramkhor' - court

  • पवार की समझाइश के बाद फैसला 
  • एक्ट्रेस को पब्लिसिटी लेने से रोको 

मुंबई. बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को उसके  बड़बोलेपन के लिए सबक सिखाने के बाद शिवसेना ने अपनी तरफ से इस चैप्टर को क्लोज कर दिया है. एक्ट्रेस के बांद्रा स्थित ऑफिस पर बीएमसी की तोड़ू कार्रवाई के बाद गुरुवार को शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से  मुलाकात की. सूत्रों के मुताबिक इस मुलाकात में दोनों नेताओं ने इस मुद्दे को लेकर आगे की रणनीति तय की है. राउत ने कहा कि  हमारी तरफ से यह विवाद खत्म हो गया है. उन्होंने कहा कि मैं सारे विवाद को भूल चुका हूं. 

पवार के निर्देश पर फैसला 

कंगना मुद्दे को लेकर महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार के किंगमेकर शरद पवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मातोश्री पर मुलाकात की थी. सूत्रों के मुताबिक पवार बीएमसी की इस कार्रवाई से नाराज हैं. उन्होंने शिवसेना से कहा है कि वे कंगना रनौत को इतना महत्व न दें. जिससे एक्ट्रेस को मीडिया में ज्यादा पब्लिसिटी बटोरने का मौका मिल सके. हालांकि सीएम ठाकरे का मानना है कि कंगना ने शिवसेना नेताओं का अपमान किया है. ऐसे में उसे सबक सिखाना जरुरी था. उनका मानना है कि कंगना के जरिए बीजेपी नेताओं को यह संदेश देना जरूरी था, जिनके बलबूते वे शिवसेना नेताओं को घेरने की तैयारी कर रहे थे. पवार का मानना है कि बीजेपी बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत के अलावा कंगना के ऑफिस पर हुई तोड़ू कार्रवाई के मुद्दे को बिहार चुनाव में भुनाने की तैयारी में है. बीजेपी को इससे रोकने के लिए बेहतर है कि शिवसेना इन मामलों पर शांत हो जाए. पवार की इस सलाह पर अमल करते हुए अब शिवसेना ने फिलहाल इस मुद्दे को ज्यादा तूल नहीं देने की रणनीति बनाई है.  

राज्यपाल नाराज 

ऐसा दावा किया जा रहा है कि कंगना के ऑफिस पर बीएमसी की तोड़ू कार्रवाई से महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी भी नाराज हैं. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के प्रमुख सलाहकार अजोय मेहता के जरिए अपनी बात सीएम तक पहुंचा दी है. ऐसा कहा जा रहा है कि कोश्यारी इस बारे में केंद्र सरकार को भी रिपोर्ट भेजने वाले हैं. राज्यपाल और सीएम के बीच तनातनी का यह पहला मामला नया नहीं है. इससे पहले जहां राज्यपाल कोश्यारी ने कैबिनेट की सिफारिश के बाद भी मुख्यमंत्री ठाकरे को विधान परिषद का सदस्य मनोनीत करने से इंकार कर दिया था. वहीं अंतिम वर्ष की परीक्षा को उनकी सहमति के बिना कैंसिल करने पर भी कोश्यारी ने नाराजगी जताई थी. 

कंगना के खिलाफ पुलिस में शिकायत 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के लिए तुम-तड़ाक जैसों शब्दों का इस्तेमाल करने को लेकर कंगना के खिलाफ मुंबई के विक्रोली पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई गई  है. यह शिकायत अधिवक्ता नितिन माने ने दर्ज कराई है. शिकायकर्ता का कहना है कि कंगना ने सीएम ठाकरे के लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है.अपने ऑफिस को तोड़े जाने के बाद बौखलाई कंगना ने एक वीडियो संदेश जारी किया था. इस सन्देश में उन्होंने सीएम ठाकरे को तुम कह कर संबोधित करते हुए जमकर खरी खोटी सुनाई थी.