KEM के टेक्निशियन शिर्के बने कोरोना विजेता

मुंबई. केईएम हास्पिटल के एक्सरे टेक्नीशियन सुनील शिर्के को भी मरीजों का एक्सरे निकालते समय किसी संक्रमित पेशेंट से इंफेक्शन हो गया था. उनको सांस लेने में परेशानी हो रही थी. बुखार और शरीर में दर्द हो रहा था. वे 29 मई को केईएम में एडमिट हुए. 30 को उनका कोरोना टेस्ट किया गया. 31 को रिपोर्ट पॉजिटिव आई. 57 वर्षीय शिर्के को 4 नंबर वार्ड में एडमिट किया गया.

दोस्तों ने मेरा हौसला बढ़ाया

 4 दिन बाद उन्हें 21 नंबर वार्ड में शिफ्ट किया गया. शिर्के ने कहा कि 21 नंबर वार्ड में खान-पान की व्यवस्था बहुत अच्छी है. कैंटीन में सफाई अच्छी होती है. दोपहर और रात में समय पर पौष्टिक खाना मिलता था. सुबह चाय-नाश्ता कुछ समय बाद अंडे आदि मिलते थे. साफ-सफाई भी अच्छी होती थी. डॉक्टर और नर्स भी पूरा ध्यान देते थे. हर दिन ऑक्सीजन लेवल, हार्ट पल्स, बुखार, डायबिटीज और बीपी की चेकिंग होती थी. 9 जून को शिर्के हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो गए और घर पर 14 दिन का होम क्वारंटाइन अवधि पूरी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि स्टाफ के अच्छे व्यवहार और मेरे मित्रों की मदद से मेरा स्वास्थ्य अच्छा हो गया. दोस्तों ने मेरा हौसला बढ़ाया, मैं उन सभी को शुक्रिया अदा करता हूं.

कोरोना से डरना नहीं है

 शिर्के ने कहा कि कोरोना से डरना नहीं है. जब किसी को संक्रमण हो जाता है तो वह ज्यादा भयभीत हो जाता है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है. सामान्य इलाज और नियमित रहने से संक्रमण का असर शीघ्र खत्म हो जाता है. लोगों को पॉजिटिव थिंकिंग रखनी चाहिए. इससे रोग की गंभीरता कम हो जाती है. संक्रमित व्यक्ति को समय पर दवा और भाप लेनी चाहिए.