सानपाड़ा कारखाने में लोकल की ओवरहॉलिंग शुरू

– निकली पहली रेक 

– परेल वर्कशॉप में हुई टॉवर वैगन की मरम्मत

मुंबई. कोरोना संक्रमण से देशव्यापी लाॅकडाउन के चलते 23 मार्च से ही नियमित यात्री ट्रेनें बंद कर दी गईं.ऐसे समय में रेलवे ने अत्यावश्यक माल परिवहन सेवाएं जारी रखी. साथ-साथ रेलवे के वर्कशॉप में भी जरूरी काम जारी रहा.

श्रमिक ट्रेन,स्पेशल ट्रेन चलाने से लेकर अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए मुंबई लोकल भी शुरू हो गई है. ऐसे समय में मध्य रेल के वर्कशॉप में भी लोकल रखरखाव का काम तेजी से शुरू हुआ है. राज्य सरकार के निर्णय पर मध्य रेल पर लोकल की 200 फेरियां चल रहीं हैं. सानपाड़ा,परेल वर्कशॉप में मरम्मत और ओवरहॉलिंग का काम हो रहा है. ओवरहॉलिंग (पीओएच ) के बाद सानपाडा कारखाने से अपना पहला ईएमयू रैक निकला.कारखाने में सभी सुरक्षा गतिविधियों का ध्यान रखते हुए, सोशल डिस्टेंसिंग, पीपीई,कार्यस्थल स्वच्छता और कर्मचारियों की थर्मल स्क्रीनिंग  की जा रही है.

हर 24 महीनों में ओवर-हॉल किया जाता है

लोकल रेक को समय-समय पर हर 24 महीनों में ओवर-हॉल किया जाता है. पहिया, बोगी,कोच की मरम्मत, घूमने वाले उपकरण जैसे ट्रैक्शन मोटर्स,कंप्रेशर्स और पेंटोग्राफ का कार्य किया जाता है. यात्री सुविधाओं में सुधार के लिए विशेष ध्यान दिया जा रहा है, जैसे बेहतर एलईडी लाइटिंग, स्टेनलेस स्टील के पंखे,पीयू पेंटिंग, अंदरूनी सफाई. परेल वर्कशॉप ने समय-समय पर ओवरहालिंग (पीओएच) के बाद टॉवर वैगन को भी शुरू कर दिया है. टॉवर वैगन एक स्व-चालित वाहन है, जिसका उपयोग सामान्य दिनों में ओवरहेड इक्विपमेंट (ओएचई) रखरखाव के लिए और आपात स्थिति में ब्रेकडाउन के लिए किया जाता है.मुंबई मंडल कर कर्जत स्थित टॉवर वैगन को परेल वर्कशॉप में रखरखाव कार्य के लिए लॉकडाउन के दौरान भेजा गया था और कार्य पूर्ण होने के बाद हाल ही में यह टॉवर वैगन कार्यखाने से रवाना किया गया.