ट्रांजिट कैंप में गए लोगों के लिए कल निकालेगी 269 घरों की लॉटरी

  • एन एम जोशी मार्ग चाल निवासियों के लिए खुशखबरी

मुंबई. शहर की ऐतिहासिक बीडीडी चालों के पुनर्विकास के बीच आने वाली सभी बाधाओं को दूर करने के लिए राज्य सरकार की कटिबद्धता के कारण सफलता मिलने लगी है.

ट्रांजिट एग्रीमेंट के साथ ही रिहैब इमारतों का एग्रीमेंट करने की बीडीडी निवासियों की जिद को मान्य करते हुए ट्रांजिट कैंप में शिफ्ट होने वाले निवासियों के लिए म्हाडा गुरुवार को दोपहर 12.30 बजे प्रस्तावित 269 घरों के लिए लॉटरी निकालेगा.

एनएम जोशी मार्ग में कुल 2,560 टेनामेंट

म्हाडा अधिकारी के अनुसार एन एम जोशी मार्ग में कुल 2,560 टेनामेंट हैं. इनका पुनर्विकास 3 चरणों में 7 साल में किया जाना है. पहले चरण में 10 चालों के 800 घरों का काम शुरु किया गया है. इसमें से 617 लोग ही पात्र हुए और 269 लोग ट्रांजिट कैंप में चले गए हैं. उनके लिए ही यह लॉटरी निकाली जाएगी. अन्य निवासियों के टीसी में भेजने का एग्रीमेंट की प्रक्रिया चल रही है. पहले चरण में 193 निवासी अपात्र हुए हैं उनके भी कागजात जमा किए जा रहे हैं. सभी को 6 मिलों की जमीन पर बनाए गए ट्रांजिट कैंपों में शिफ्ट किया जा रहा है. 

नायगांव बीडीडी का पुनर्विकास अधर में लटका

नायगांव बीडीडी चाल के पुनर्निर्माण से एलएंडटी कंपनी के हाथ खींचने से यहां का पुनर्विकास अधर में लटक गया है, लेकिन वर्ली बीडीडी चाल और एन एम जोशी मार्ग का काम आगे बढ़ रहा है. म्हाडा मुंबई मंडल के सहमुख्य अधिकारी जीवन गलांडे ने बताया कि एन एम जोशी मार्ग चाल के निवासियों की पात्रता निश्चित कर स्थानांतरण काम तेजी से चल रहा है. ट्रांजिट कैंप में भेजे गए 269 निवासियों को गिफ्ट देने का निर्णय किया गया है.

मंत्रिमंडल की बैठक के पहले लाटरी

पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे, गृहनिर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड की उपस्थिति में बुधवार 3 बजे ऑनलाइन लॉटरी निकाली जानी थी, लेकिन बुधवार को मंत्रिमंडल की बैठक रद्द कर गुरुवार को 3 बजे रखी गई है इसलिए मुंबई मंडल ने लॉटरी के समय में बदलाव करते हुए दोपहर 12.30 बजे कर दिया है. अधिकारी के अनुसार, 1 से 15 अक्टूबर के बीच बचे हुए निवासियों को स्थानांतरित करने की मुहिम शुरु की जाएगी. 

कोरोना के कारण रुकी थी लाटरी

लॉटरी निकालने की तैयारी 15 मार्च को ही पूरी कर ली गई थी, लेकिन कोरोना संकट के कारण इसे रोक दिया गया था. अब अक्टूबर में लॉटरी निकाल कर सरकार बीडीडी चाल निवासियों से किए गए वादे को पूरा करेगी जिससे उनमें सरकार के प्रति भरोसा पैदा हो और अन्य बीडीडी चाल निवासी भी पुनर्निर्माण के लिए बाधा न बनें. म्हाडा का नियम है कि इमारत पूरी तरह तैयार होने के बाद ही उसकी लॉटरी निकाली जाती है लेकिन बीडीडी चाल के लिए सरकार ने नियमों को दरकिनार कर दिया है.

पहली बार लाटरी निकलेगी पहले

अभी इमारत निर्माण का काम भी शुरु नहीं हुआ है. निर्माण कार्य शुरु होने के बाद पूरा होने में कम से कम 30 महीने का समय लगता है. एन जोशी मार्ग में 32 चालें हैं एक चाल में 80 टेनामेंट हैं. यहां पर 3 बेसमेंट को छोड़ कर 22 मंजिला इमारतें बनाई जानी हैं. म्हाडा के इतिहास में यह पहली बार है कि इमारत निर्माण कब शुरु होगा यह पता नहीं है लेकिन लॉटरी पहले ही निकाली जा रही है.