फिर सुलगी मराठा आरक्षण की आग, मुंबई में कई जगहों पर प्रदर्शन

  • धनगर आरक्षण का मुद्दा भी जोर पकड़ा

मुंबई. मराठा आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के अंतरिम बैन के बाद अब एक बार फिर आंदोलन ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया है. मराठा आरक्षण को बचाने की मांग को लेकर रविवार को मुंबई में करीब 25 जगहों पर धरना- प्रदर्शन किया गया. इस दौरान पुलिस सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे. मराठा आरक्षण की मांग को लेकर मराठा क्रांति मोर्चा ने आंदोलन का आह्वान किया था, जिसके तहत मराठा आरक्षण से जुड़े नेताओं ने लालबाग,दादर,गिरगांव, भांडुप,बांद्रा, विले पार्ले,जोगेश्वरी, कुर्ला,घाटकोपर और पवई समेत कई जगहों पर धरना-प्रदर्शन किया.

हमारी सुनवाई नहीं

मराठा आंदोलन से जुड़े नेताओं ने कहा कि एक्टर सुशांत सिंह की मौत के बाद इसकी जांच के लिए कई एजेंसी काम कर रही है. काफी लोग एक्टर की मौत को लेकर आवाज उठा रहे हैं. मराठा आरक्षण की मांग को लेकर हमारे कार्यकर्ताओं ने भी जान दी है, लेकिन हमारी सुधि लेने वाला कोई नहीं है. आंदोलन से जुड़े नेताओं ने कहा है कि जब तक हम आरक्षण के लक्ष्य को हासिल नहीं कर लेते, हमारा यह आंदोलन थमने वाला नहीं है.  

डब्बावालों ने लिया भाग

मराठा आरक्षण की मांग को लेकर आयोजित प्रदर्शन में मुंबई में खाने का डब्बा पहुंचाने वाले लोगों ने भी भाग लिया. डब्बा वालों के नेता सुभाष तलेकर ने कहा कि मुंबई में डब्बा पहुंचाने वाले करीब 90 फीसदी से ज्यादा लोग मराठा हैं. ऐसे में मराठा आरक्षण पर रोक से हमारे लोग काफी प्रभावित होंगे.  

धनगर नेताओं ने भी खोला मोर्चा

मराठा आरक्षण के बाद अब धनगर समाज से जुड़े नेताओं ने अपने समुदाय के लोगों के लिए आरक्षण की मांग तेज कर दी ही. धनगर समाज के नेता प्रकाश शेंडगे ने ठाकरे सरकार से इस बारे में अध्यादेश लाकर समाज को आरक्षण देने की मांग की है. उन्होंने सोमवार को परभणी से आंदोलन छेड़े जाने का ऐलान किया है.