शिवाजी पार्क में सजेगा माता का दरबार

  • बंगाल क्लब की दुर्गा पूजा की तैयारियां जोरों पर
  • कोरोना काल में किए गए कई तरह के बदलाव
  • 21 से 25 अक्टूबर तक होगा आयोजन

गंगाराम विश्वकर्मा

मुंबई. बंगाल क्लब की ओर से दादर ( पश्चिम ) शिवाजी पार्क में दुर्गा पूजा की तैयारियां जोरों से चल रही है. इस वर्ष बंगाल क्लब की ओर से आयोजित दुर्गा पूजा महोत्सव का 85वां वर्ष है. यहां पर बंगाली समुदाय अपनी पारम्परिक पूजा पद्धति से हर वर्ष बड़े उत्साह के साथ दुर्गोत्सव का आयोजन करता रहा है. कोरोना महामारी के चलते इस बार पंडाल नहीं सजेगा और न ही बंगाली परिधान ,खान पान, पुस्तकों की प्रदर्शनी लगाई जाएगी. 

 पंडाल की बजाय क्लब के सभागृह में दुर्गोत्सव

बंगाल क्लब के जनसंपर्क अधिकारी प्रसून रक्षित ने बताया कि शिवाजी पार्क में दुर्गा पूजा पूरी तरह बंगाली परम्परा से मनाया जाता है. इस बार कोरोना महामारी को देखते हुए बाहर पंडाल की बजाय क्लब के सभागृह में दुर्गोत्सव का आयोजन किया जा रहा है.मां दुर्गा की आकर्षक विशाल मूर्ति की जगह इस बार दुर्गा की 4 फीट की मूर्ति बनाई जा रही है, जबकि गणेश, लक्ष्मी, कार्तिकेय की मूर्तियां 3 फीट की होंगी. मूर्ति को पश्चिम बंगाल के हुबली तट से लाई गई मिटटी और गंगा जल के मिश्रण से बंगाल के पारंपरिक कलाकार अमित पाल अंतिम रूप दे रहे हैं. 21 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक आयोजित दुर्गा पूजा की सजावट सिनेमा के प्रसिद्ध कला निर्देशक और प्रोडक्शन डिजाइनर नितिन देसाई करेंगे. 

मिनी बंगाल के रूप में तब्दील हो जाता है

क्लब के प्रवक्ता जॉय चक्रवर्ती ने बताया कि 5 दिवसीय दुर्गोत्सव में करीब 10 लाख भक्त माता के दर्शन करते हैं. बंगाल क्लब की ओर से आयोजित यह समारोह पूरी तरह मिनी बंगाल के रूप में तब्दील हो जाता है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए इस बार सरकारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जायेगा और भक्तों का कोई जमावड़ा नहीं होगा. इस वर्ष पारम्परिक सामूहिक धुनुची नृत्य और सिंदूर खेला का आयोजन नहीं किया जाएगा. डिजिटल प्लेटफार्मों पर पूजा का लाइव टेलीकास्ट किया जायेगा. परिसर में कोई प्रसाद वितरण नहीं होगा. हालांकि दाताओं को उनके दरवाजे पर कूरियर सेवाओं द्वारा ‘देवी प्रसाद’ (सूखा प्रसादम) प्राप्त होगा.

‘सम्पूर्णा’ पर अधिक ध्यान

स्वाति मुखर्जी ने बताया कि क्लब के चैरिटी प्रोजेक्ट ‘सम्पूर्णा’ पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है जिसमें आसपास के चयनित स्कूलों के छात्रों को निःशुल्क दोपहर का भोजन प्रदान किया जाता है. चिकित्सा शिविरों के आयोजन और स्कूलों की छात्राओं को स्कूल यूनिफॉर्म प्रदान करने के लिए भविष्य की योजनाएं भी तैयार की जा रही हैं. श्री दुर्गा पूजा के दौरान क्लब के परिसर में 18 अक्टूबर को रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है. इस दौरान बंगाल क्लब कोरोना महामारी की लड़ाई में मुख्यमंत्री सहायता निधि में 5 लाख रुपए भी देगा.