बीकेसी में बुलेट ट्रेन की जगह पर मेट्रो कार शेड !

  • ठाकरे सरकार का काउंटर अटैक
  • कार शेड बना नाक का सवाल

मुंबई. कांजुरमार्ग में मेट्रो कार शेड (Metro Car Shed) के निर्माण पर मुंबई हाईकोर्ट के फैसले से झटके के बाद अब ठाकरे सरकार ने काउंटर अटैक शुरू कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक़ अब ठाकरे सरकार मेट्रो 3 कार शेड बनाने के लिए बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (Bandra Kurla Complex) में बुलेट ट्रेन (Bullet train) के लिए प्रस्तावित जगह पर विचार कर रही है. ठाकरे सरकार में शामिल नेताओं का आरोप है कि केंद्र की बीजेपी सरकार मेट्रो कार शेड का काम रोकने का साजिश रच रही है. ऐसे में अब ठाकरे सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन की जगह पर नजरें टिका दी है.

यदि ठाकरे सरकार इस जमीन का अधिग्रहण करती है तो बुलेट ट्रेन परियोजना का काम अटक सकता है. इस लड़ाई को देखते हुए मेट्रो कार शेड का मुद्दा अब केंद्र और ठाकरे सरकार के बीच नाक का सवाल बन गया है. मुंबई में बुलेट ट्रेन की परियोजना को लेकर ठाकरे सरकार का रुख शुरू से ठंडा रहा है. सरकार में शामिल कांग्रेस नेताओं का मानना है कि बुलेट ट्रेन परियोजना मुंबई के हित में नहीं है. उनका कहना है कि जब मुंबई से गुजरात जाने के लिए ट्रेन व विमान के कई विकल्प मौजूद हैं, तो बुलेट ट्रेन की जरुरत नहीं है. ऐसे में माना जा रहा है कि महाराष्ट्र विकास आघाड़ी में शामिल दल जल्द ही इस फैसले पर फाइनल मुहर लगा सकते हैं.  

केंद सरकार का तोड़

कांजुरमार्ग में मेट्रो कार शेड के निर्माण पर रोक के बाद बीजेपी नेताओं ने ठाकारे सरकार पर हमला तेज कर दिया है. नेता विपक्ष देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि मेट्रो कार शेड को आरे कॉलोनी से कांजुरमार्ग में शिफ्ट करने का फैसला गलत था. उन्होंने आरोप लगाया है कि ठाकरे सरकार की हठ की वजह से मुंबई में मेट्रो ट्रेन का काम साल 2024 तक अटक सकता है. दूसरी ओर कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर किसी भी कीमत पर आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड बनाने के पक्ष में नहीं हैं. ऐसे में बीकेसी की जमीन को अब ठाकरे सरकार मेट्रो कार शेड के लिए नए विकल्प के रूप में देख रही है. जानकारों के मुताबिक ठाकरे सरकार ने इस विकल्प को तलाश कर केंद्र सरकार का तोड़ निकाल लिया है. उनकी कोशिश यह है कि हाईकोर्ट  के फैसले से मेट्रो ट्रेन के काम पर असर नहीं पड़ना चाहिए.    

केंद्रीय सचिव ने महाराष्ट्र के मुख्य सचिव को घेरा

कांजुरमार्ग में मेट्रो कार शेड बनाने को लेकर केंद्र और महाराष्ट्र सरकार की लड़ाई अब आधिकारिक स्तर पर तेज हो गई है. सूत्रों के मुताबिक़ केंद्रीय नगर विकास सचिव व मुंबई मेट्रो रेल कारपोरेशन के अध्यक्ष दुर्गा शंकर मिश्र ने महाराष्ट्र के मुख्य सचिव संजय कुमार को एक पत्र लिख कर मेट्रो कार शेड को कांजुरमार्ग शिफ्ट किए जाने पर आपत्ति जताई है. पत्र में कहा गया है कि आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड 100 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट द्वारा  आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड बनाने को हरी झंडी दिए जाने के बाद कोई विवाद नहीं है. ऐसे स्थिति में कार शेड को दूसरी जगह शिफ्ट करने से खर्च और बढ़ेगा. अधिकारी मिश्र ने कहा है कि कांजुरमार्ग में कार शेड बनाने से मेट्रो ट्रेन के परिचालन में तकनीकी मुश्किलें भी आएंगी.