BRICS NDB Bank approves loan for Mumbai Metro, Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTC project

मुंबई. मुंबई की पहली मेट्रो लाइन जो पिछले 7 महीनों से बंद थी आज से फिर दौड़ने लगेगी. कोरोना काल में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए यात्री सुरक्षित यात्रा कर सकें इसके लिए मेट्रो वन प्रशासन पूरी तैयारी कर ली है. सुबह 8.30 बजे से वर्सोवा और घाटकोपर स्टेशन से ट्रेनें संचालित की जाएंगी. मेट्रो से यात्रा करने वाले यात्री लंबे समय से मेट्रो चलने की प्रतीक्षा कर रहे थे. 

मुंबई मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के सीओ अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि कोरोना के कारण लॉकडाउन के समय से ही मेट्रो  आम जनता के लिए बंद थी. अब राज्य सरकार ने मेट्रो चलाने की अनुमति दी है. मेट्रो के संचालन के लिए नई नियमावली तैयार की गई है. मेट्रो गाडियों का, रख रखाव, साफ सफाई,   ट्रायल रन मई से चल रहा था. कोरोना के बीच सुरक्षित यात्रा के लिए जो बदलाव करना था वह पहले ही पूरा कर लिया गया था. इसलिए आदेश आने के 3 दिन के भीतर मेट्रो चलने के लिए तैयार है. अभी मेट्रो में केवल 50% यात्रियों को प्रवेश दिया जाएगा. एक बार में सिर्फ 300 यात्री ही यात्रा कर सकेंगे. इनमें 100 यात्री बैठकर और करीब 200 यात्रियों को खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति होगी. पहले मेट्रो का संचालन सुबह 5.30 बजे से रात 11.30 तक किया जाता था, लेकिन अब सुबह 8.30 से रात 8.30 बजे तक ही किया जाएगा. पहले रोज 400 चक्कर लगते थे लेकिन अब 200 चक्कर ही लगेंगे. 

सभी को यात्रा करने की होगी छूट

पहले हर 3 मिनट में मेट्रो चलती थी आज से भीड़ के समय 6 मिनट के अंतराल पर चलेगी. बाकी समय 8 मिनट के अंतराल पर चलाई जाएगी. पहले सिर्फ अतिआवश्यक कार्य के लोगों को यात्रा करने के लिए कहा गया था जिसे बदल कर अब आम जनता के लिए कर दिया गया है. लोकल की तरह यहां कोई बंधन नहीं होगा. मिश्रा ने बताया कि  यात्रा करने के लिए मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा.

यात्रा करते समय रखें इन बातों का ध्यान

  •  मेट्रो में बीमार लोगों को यात्रा करने की इजाजत नहीं दी जाएगी.
  • मेट्रो परिसर में एंट्री करने से पहले सभी यात्रियों के शरीर के तापमान की जांच की जाएगी.
  • मेट्रो परिसर में एंट्री लेते वक्त मास्क पहनना अनिवार्य होगा.
  •  ट्रेन में एक सीट छोड़ कर लोगों की बैठने की व्यवस्था की गई है.
  • ट्रेन के कोच में यात्री किस तरह से खड़े होंगे इसके लिए भी मार्किंग की गई है.
  • क्यूआरकोड के माध्यम से यात्रियों को मिलेगा प्रवेश