Devendra Fadnavis
File Photo

    मुंबई. पूर्व मुख्यमंत्री एवं विधान सभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने कहा है कि फोन टेपिंग मामले (Phone Tapping Case) में जो रिपोर्ट मुख्यमंत्री (Chief Minister) को दी गयी है, उस पर मुख्य सचिव सीताराम कुंटे (Chief Secretary Sitaram Kunte) का केवल हस्ताक्षर (Signature) है। रिपोर्ट की स्क्रीप्ट गृहनिर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक ने तैयार की है।

    पत्रकारों के सवालों का उत्तर देते हुए फडणवीस ने कहा कि सीताराम कुंटे को मैं अच्छी तरह से जनता हूं, वह बहुत अलग तरह के व्यक्ति हैं। सीताराम कुंटे की तरफ से जो रिपोर्ट मुख्यमंत्री को दी गई है, उसको पढ़ने के बाद हम यह स्वीकार नहीं कर सकते हैं कि उस रिपोर्ट को कुंटे ने तैयार किया है। इसका यह भी कारण है कि रिपोर्ट में कई गलतियां हैं। 

     नबाव मलिक ने रिपोर्ट लीक की 

    विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि फोन टेपिंग की रिपोर्ट नबाव मलिक ने लीक की है। कई पत्रकारों ने रिपोर्ट हमारे पास भेजा। मुझे बताया कि यह रिपोर्ट मलिक ने दिया है। इसलिए इस रिपोर्ट को सार्वजनिक करने का काम नवाब मलिक ने किया है।

    शरद पवार का भी टेप किया गया फोन, संजय राउत का दावा 

    इस बीच, शिवसेना नेता एवं सांसद संजय राउत ने दावा किया है कि हमारा एवं एनसीपी प्रमुख शरद पवार का भी फोन टेप किया गया था। उन्होंने यह भी कहा है कि केवल विधायकों, नेताओं के ही नहीं सांसदों एवं पत्रकारों का भी फोन टेप किया गया। शिवसेना नेता संजय राउत ने आईपीएस अधिकारी रश्मि शुक्ला पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि राजेंद्र यड्रावकर सहित कई विधायक रश्मि शुक्ला के सम्पर्क में थे। राज्य में ठाकरे सरकार न बने इसको लेकर उन्होंने विधायकों को धमकी भी दी थी।