कोरोना की चपेट में 2000 से अधिक कैदी

  • 6 कैदियों  और 4 जेल कर्मचारियों की मौत
  • नागपुर जेल और आर्थर रोड में सबसे अधिक कैदी कोरोना ग्रस्त

मुंबई. कोरोना के संक्रमण से जेलें भी अछूती नहीं हैं और यहाँ भी संक्रमण दिनों दिन बढ़ता जा रहा है. राज्य के विभिन्न जेलों में बंद कैदी भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं और अब तक 2011 कैदी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. 6 कैदियों और 4 जेल कर्मचारियों की कोरोना से जान चली गयी है. नागपुर जेल और मुंबई के आर्थर रोड जेल के कैदी सबसे अधिक कोरोना संक्रमित पाए गए हैं.

मुंबई के आर्थर रोड जेल की क्षमता 805 कैदियों को रखने की है, लेकिन जेल में 3 हजार 400 कैदियों को रखा गया है. पिछले दिनों जेल की सुरक्षा में तैनात 46 पुलिस कर्मियों के साथ जेल में बंद 182 कैदी भी कोरोना के चपेट में आ गए थे. इसके बाद 400 कैदियों को आर्थर रोज जेल से तलोजा जेल में शिफ्ट किया गया था. आर्थर रोड जेल के कैदियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद राज्य भर के जेलों में बंद कैदियों के कोरोना टेस्ट किया गया. इस समय राज्य की विभिन्न जेलों में काम करने वाले 416 कर्मचारी कोरोना की चपेट में आए हैं.

अब तक कोरोना से 217 पुलिस कर्मियों की मौत

कोरोना महामारी से मुंबई समेत महाराष्ट्र में पुलिस कर्मियों की मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है. अब तक राज्य में में 217 पुलिस कर्मियों के मौत हो चुकी है. राज्य में 21 हजार 152 पुलिसकर्मी कोरोना की चपेट में आए थे, जिसमें 17 हजार 295 पुलिसकर्मी कोरोना को मात देकर ठीक हो चुके हैं. 217 पुलिस कर्मियों की कोना से मौत हो चुकी है. जबकि 3,640 पुलिसकर्मी अभी भी जूझ रहे हैं.