‘मुंबई नाइटलाइफ’ नीति का पहले दिन कोई खास असर नहीं

मुंबई में लोगों को ‘नाइटलाइफ' को बढ़ावा देने के लिए ‘मुंबई 24 आ‍वर्स' की नीति जागरुकता की कमी की वजह से खास असर नहीं छोड़ पाई. राज्य मंत्रिमंडल ने 22 जनवरी को ‘मुंबई 24 आवर्स'

मुंबई. मुंबई में लोगों को ‘नाइटलाइफ’ को बढ़ावा देने के लिए ‘मुंबई 24 आ‍वर्स’ की नीति जागरुकता की कमी की वजह से खास असर नहीं छोड़ पाई.
राज्य मंत्रिमंडल ने 22 जनवरी को ‘मुंबई 24 आवर्स’ नीति को मंजूरी दे दी थी. इसके तहत गैर आवासीय इलाके में स्थित मॉल और खाद्य परिसरों में रात में रेस्त्रां, दुकान और थियेटर खुले रखने की मंजूरी है, ताकि लोग रात में जीवन के आनंद ले सकें. यह नीति 26 जनवरी से लागू हो गई. नरीमन प्वाइंट और वर्ली क्षेत्रों में कई मॉल रात में बंद रहे. राज्य पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे इसको लेकर आशावादी हैं. इस कदम के पीछे मुख्य तौर पर वह जुड़े हैं.
ठाकरे से जब देर रात मॉल बंद करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कुछ सप्ताह में जब लोगों को यह महसूस होगा कि देर रात बाहर जाना और आनंद उठाना सुरक्षित है तो वह ऐसा करने लगेंगे. उन्होंने कहा कि उन दुकानों को रात में खोले जाने की अनुमति है जो सुरक्षा नियम का पालन करते हैं. ठाकरे ने दोहराया कि मुंबई सभी के लिए सुरक्षित है और ऐसी बनी रहेगी. इस नीति के तहत दुकानों, मॉल और रेस्त्रां को खोलना वैकल्पिक है न कि अनिवार्य.