sputnik-vaccine

    मुंबई. रूस (Russia) द्वारा बनाई गई दुनिया की सबसे पहली कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) स्पुतनिक (Sputnik) का इंतजार कई मुंबईकर (Mumbaikar) कर रहे हैं। यह वैक्सीन कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ 91 फीसदी तक सफल साबित हुई है। महाराष्ट्र को 8 और मनपा को 7 सप्लायर ने स्पुतनिक देने की इच्छा टेंडर (Tender) के जरिए दर्शाई है, लेकिन क्या वाकई में मुंबईकरों यह वैक्सीन मिलेगी यह तब ही तय हो पाएगा जब भारत में इसे बनाने वाली डॉ. रेड्डी लैब यह कंफर्म करेगी कि सप्लायर सच में वैक्सीन मुहैया कराने में सक्षम है या नहीं।  मनपा के अधिकारियों की मानें तो जब तक वैक्सीन मिल नहीं जाती तब तक कुछ कहना ठीक नहीं होगा, फिलहाल मुंबईकरों को स्पुतनिक के लिए इंतजार करना होगा।

    मुंबई सहित महाराष्ट्र में फिलहाल ऑक्सफ़ोर्ड द्वारा विकसित कोविशिल्ड और भारत बॉयोटेक द्वारा बनाई गई कोवैक्सीन का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जा रहा है। कोविशिल्ड को विश्व स्वास्थ्य संघटन (डब्लूएचओ) से भी हरी झंडी मिल गई है, लेकिन कोवैक्सीन को अब भी डब्लूएचओ से मान्यता प्राप्त नहीं हुई है। हालांकि दोनों ही वैक्सीन का ट्रायल में प्रदर्शन बेहतरीन रहा है। अध्ययन के आधार पर कोविशील्ड लगभग 71 फीसदी, कोवैक्सीन लगभग 81 फीसदी,  स्पूतनिक प्रदर्शन के मामले में सबसे आगे है। अब कई मुंबईकर स्पुतनिक वैक्सीन लेने की राह देख रहे हैं। 

    मनपा ने ग्लोबल टेंडर निकाला

    मनपा ने वैक्सीन खरीदने के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला जिसमें 8 लोगों ने स्पुतनिक देने की इच्छा जताई है। दूसरी ओर हैदराबाद की डॉ. रेड्डी लैब जिसने रूस के साथ करार कर स्पुतनिक बनाने का फैसला लिया है उसने फिलहाल किसी भी कंपनी या सप्लायर के साथ वैक्सीन देने का कोई भी समझौता नहीं करने की बात कही है। मनपा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह कहना मुश्किल होगा कि स्पुतनिक कब तक मिलेगी। हमारे टेंडर निकालने के बाद 7 बिडर ने स्पुतनिक सप्लाई करने की बात कही है, लेकिन कहने और देने में अंतर होता है। जब तक वैक्सीन मिल नहीं जाती तब तक कुछ कहना ठीक नहीं होगा

    मनपा ने 1 करोड़ वैक्सीन के लिए टेंडर निकाला है। जिस भी कंपनी को यह टेंडर मिलेगा उसे शर्तों के अनुसार 3 सप्ताह के भीतर वैक्सीन की सप्लाई करनी होगी। अब कंपनी वाकई में वैक्सीन सप्लाई करने में सक्षम है या नहीं यह देखना होगा। हमने उनसे सभी दस्तावेज मंगाए हैं। उनके दस्तावेजों की जांच की जाएगी और यह पता लगाया जाएगा कि क्या उनकी वैक्सीन कंपनियों के साथ कोई करार है? क्या वे किसी ऐसे डिस्ट्रीब्यूटर के संपर्क में जो वाकई में वैक्सीन की आपूर्ति करने में सक्षम है ? जब तक यह सब बातों का पता नहीं लगाया जाता तब-तक हमें इंतजार करना होगा।

    -सुरेश काकानी, अतिरिक्त मनपा आयुक्त (स्वास्थ्य)

    मुंबई में अग्रीपाड़ा के निवासियों को मिलेगी स्पुतनिक

     राज्य सरकार और मनपा को भले ही स्पुतनिक वैक्सीन नहीं मिल रही है, लेकिन अग्रीपाड़ा के लगभग 3,000 रहिवासियों ने अपने लिए स्पुतनिक का जुगाड़ कर लिया है। ‘द मुंबई सेंट्रल एंड अग्रीपाड़ा एडवांस लोकैलिटी मैनेजमेंट (एमसीए एएलएम) के अंतर्गत आनेवाली 80 इमारतों में 6 से 7 हजार लोग रहते है इसमें से कइयों ने अन्य वैक्सीन ले ली है, लेकिन अब करीब 3000 लोग जून के मध्य तक स्पुतनिक का डोज लेंगे। वहां के निवासियों की मानें तो उन्हें डॉ. रेड्डी लैब से 1000 डोज मिल जाएगी। उन्होंने इसके लिए वोकहार्ट अस्पताल के साथ टॉय अप भी किया है।

    एएलएम ने कंपनी से बात कर वैक्सीन का अरंजमेंट किया है। वैक्सीन को रखने के लिए 2 से 8 डिग्री का कोल्ड स्टोरेज चाहिए हम केवल वैक्सीन को अस्पताल में रखेंगे और उक्त निवासियों का टीकाकरण करेंगे। करीब 1000 डोज मिलने वाले है प्रत्येक दिन हम 500 लोगों का टीकाकरण करेंगे। हमने इस टीकाकरण के लिए मनपा से अनुमति मांगी है। जून के दूसरे सप्ताह तक वैक्सीन मिल जाएगी।

    -डॉ. पराग रिंदानी, सेंट्रल हेड, वोकहार्ट अस्पताल